Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
#2 Trending Author
Jul 2, 2022 · 1 min read

यह दिल

दिल मे फूल की तरह महकता है वह
जहन मे काँटो की तरह चूभता है
आशिक था वह पुराना मेरा
वफा कर नही सका था
भुल गई थी मै उसे बहुत पहले
पर यह कमबख्त दिल ने न उसे भुलाया
न जाने क्यो यह उसके प्यार मे
इतना पगलाया है
जो उसे आज भी याद करता है
आज भी न जाने क्यो उससे
वफा का उम्मीद लिए यह दिल
उसके इंतजार मै बैठा है।

~अनामिका

4 Likes · 4 Comments · 109 Views
You may also like:
कृष्ण पक्ष// गीत
Shiva Awasthi
माई थपकत सुतावत रहे राति भर।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
“ खून का रिश्ता “
DrLakshman Jha Parimal
रुतबा
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
जगत के स्वामी
AMRESH KUMAR VERMA
'माॅं बहुत बीमार है'
Rashmi Sanjay
रस्सियाँ पानी की (पुस्तक समीक्षा)
Ravi Prakash
हर घर तिरंगा
Dr Archana Gupta
शब्दों के एहसास गुम से जाते हैं।
Manisha Manjari
Oh dear... don't fear.
Taj Mohammad
हाइकु_रिश्ते
Manu Vashistha
भूख की अज़ीयत
Dr fauzia Naseem shad
मोहब्बत की बातें।
Taj Mohammad
कश्ती को साहिल चाहिए।
Taj Mohammad
ना कर गुरुर जिंदगी पर इतना भी
VINOD KUMAR CHAUHAN
चंद सांसे अभी बाकी है
Arjun Chauhan
सरल हो बैठे
AADYA PRODUCTION
✍️हम भारतवासी✍️
'अशांत' शेखर
*पार्क में योग (कहानी)*
Ravi Prakash
✍️आत्मपरीक्षण✍️
'अशांत' शेखर
जग के पिता
DESH RAJ
कर्म
Rakesh Pathak Kathara
✍️✍️नासूर दर्द✍️✍️
'अशांत' शेखर
प्रेम चिन्ह
sangeeta beniwal
मातृभूमि
Rj Anand Prajapati
औकात में रहिए
Gaurav Dehariya साहित्य गौरव
मैं तो सड़क हूँ,...
मनोज कर्ण
✍️गर्व करो अपना यही हिंदुस्थान है✍️
'अशांत' शेखर
🌺प्रेम की राह पर-52🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
  " परिवर्तन "
Dr Meenu Poonia
Loading...