Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 Mar 2023 · 1 min read

💐प्रेम कौतुक-314💐

यह तुम्हारी मूर्खता है कि मुझे यह समझा जा रहा होगा कि समय बरबाद हो रहा है मेरा।तुम्हारी दृष्टि में।मेरी तो दिमाग़ी कसरत हो रही है।तुम सब मूर्ख हो वह भी प्रमाणित।

©®अभिषेक: पाराशरः “आनन्द”

Language: Hindi
113 Views
Join our official announcements group on Whatsapp & get all the major updates from Sahityapedia directly on Whatsapp.
You may also like:
2326.पूर्णिका
2326.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
💐 Prodigy Love-6💐
💐 Prodigy Love-6💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
मन के ब्यथा जिनगी से
मन के ब्यथा जिनगी से
Ram Babu Mandal
होली औऱ ससुराल
होली औऱ ससुराल
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
जाति जनगणना
जाति जनगणना
मनोज कर्ण
*ढूंढ लूँगा सखी*
*ढूंढ लूँगा सखी*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
🌹*लंगर प्रसाद*🌹
🌹*लंगर प्रसाद*🌹
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
रह जाता सब कुछ धरा ,मरने के फिर बाद(कुंडलिया)*
रह जाता सब कुछ धरा ,मरने के फिर बाद(कुंडलिया)*
Ravi Prakash
उठो पथिक थक कर हार ना मानो
उठो पथिक थक कर हार ना मानो
सुशील मिश्रा (क्षितिज राज)
दूर रह कर सीखा, नजदीकियां क्या है।
दूर रह कर सीखा, नजदीकियां क्या है।
Surinder blackpen
मुक्तक-
मुक्तक-
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
👌फार्मूला👌
👌फार्मूला👌
*Author प्रणय प्रभात*
बरसात
बरसात
लक्ष्मी सिंह
नहीं, बिल्कुल नहीं
नहीं, बिल्कुल नहीं
gurudeenverma198
#यदा_कदा_संवाद_मधुर, #छल_का_परिचायक।
#यदा_कदा_संवाद_मधुर, #छल_का_परिचायक।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
everyone says- let it be the defect of your luck, be forget
everyone says- let it be the defect of your luck, be forget
Ankita Patel
टूटा हूँ इतना कि जुड़ने का मन नही करता,
टूटा हूँ इतना कि जुड़ने का मन नही करता,
Vishal babu (vishu)
कौन जिम्मेदार इन दीवार के दरारों का,
कौन जिम्मेदार इन दीवार के दरारों का,
कवि दीपक बवेजा
फांसी के तख्ते से
फांसी के तख्ते से
Shekhar Chandra Mitra
खंडहर में अब खोज रहे ।
खंडहर में अब खोज रहे ।
Buddha Prakash
Re: !! तेरी ये आंखें !!
Re: !! तेरी ये आंखें !!
RAJA KUMAR 'CHOURASIA'
"ख़्वाहिशें"
Dr. Kishan tandon kranti
यश तुम्हारा भी होगा।
यश तुम्हारा भी होगा।
Rj Anand Prajapati
Jaruri to nhi , jo riste dil me ho ,
Jaruri to nhi , jo riste dil me ho ,
Sakshi Tripathi
अजनवी
अजनवी
Satish Srijan
हम जैसे बरबाद ही,
हम जैसे बरबाद ही,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
पोथी- पुस्तक
पोथी- पुस्तक
Dr Nisha nandini Bhartiya
बुलेटप्रूफ गाड़ी
बुलेटप्रूफ गाड़ी
Shivkumar Bilagrami
पत्नी की प्रतिक्रिया
पत्नी की प्रतिक्रिया
नन्दलाल सिंह 'कांतिपति'
मैंने पत्रों से सीखा
मैंने पत्रों से सीखा
Ms.Ankit Halke jha
Loading...