Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
#2 Trending Author
May 31, 2022 · 1 min read

यह चिड़ियाँ अब क्या करेगी

आँधी आई आज जोर से
टूट गई कितनी डाली ।
सड़के गलियाँ चारों तरफ
बिखरी थी सिर्फ डाली ही डाली।

साथ में कितने चिड़ियों का
घोंसला टूट गया है आज।
कितने अंडे टूट गये,
कितनो चिड़ियों का ले गया प्राण।

बची हुई चिड़ियाँ बेचारी
सोच रही है लगाकर ध्यान।
रात कहाँ अब वह गुजारेगी
अब नही रहा उसका मकान।

दर्द कितना दे गया उसे आँधी,
कैसे करे उस दर्द का बयान।
आँखों में आँसु भरकर वह
ढुँढ रही है अपना मकान।

करके विलाप वह अपने
अंडे और बच्चे को,
इधर-उधर ढुँढ रही है।
आँधी तो चली गई
पर उसके जीवन मे
जो आँधी छोड़ गई है
अब वह बेचारी कैसे
उससे बाहर निकल पाएगी।
कैसे वह अपना यह घाव
भर पाएगी।

~अनामिका

5 Likes · 4 Comments · 171 Views
You may also like:
हलाहल दे दो इंतकाल के
Varun Singh Gautam
💐अशान्ति: अवश्यमेव नष्ट: भविष्यति,कदा??💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
अभागीन ममता
ओनिका सेतिया 'अनु '
अलबेले लम्हें, दोस्तों के संग में......
Aditya Prakash
चुनौती
AMRESH KUMAR VERMA
बेचैन कागज
Dr Meenu Poonia
हर अश्क कह रहा है।
Taj Mohammad
मांँ की लालटेन
श्री रमण 'श्रीपद्'
रूह को कैसे सजाओगे।
Taj Mohammad
कमर तोड़ता करधन
शेख़ जाफ़र खान
✍️सिर्फ मिसाले जिंदा रहेगी...!✍️
'अशांत' शेखर
हम उन्हें कितना भी मनाले
D.k Math { ਧਨੇਸ਼ }
✍️आज तारीख 7-7✍️
'अशांत' शेखर
अंधेरी रातों से अपनी रौशनी पाई है।
Manisha Manjari
यूं तुम मुझमें जज़्ब हो गए हो।
Taj Mohammad
💐भगवत्कृपा सर्वेषु सम्यक् रूपेण वर्षति💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
उन बिन, अँखियों से टपका जल।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
*ए.पी. जे. अब्दुल कलाम (गीतिका)*
Ravi Prakash
सजा मुस्कराने की क्या होगी - डी के निवातिया
डी. के. निवातिया
मज़हबी उन्मादी आग
Dr. Kishan Karigar
समय का सदुपयोग
Anamika Singh
न झुकेगे हम
AMRESH KUMAR VERMA
अक्षय तृतीया की हार्दिक शुभकामनाएं
sheelasingh19544 Sheela Singh
सोचता रहता है वह
gurudeenverma198
बंजारों का।
Taj Mohammad
एक दिन तू भी।
Taj Mohammad
इश्क के आलावा भी।
Taj Mohammad
अपने दिल को।
Taj Mohammad
आवत हिय हरषै नहीं नैनन नहीं स्नेह।
sheelasingh19544 Sheela Singh
"वो पिता मेरे, मै बेटी उनकी"
रीतू सिंह
Loading...