Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

— यह कैसी विडंबना —

यह कैसी विडंबना है
कैसा यह खौफ्फ्नाक मंजर है
जहाँ सब चीज का होता विनाश
आज क्यूं यह सब का हाल है

रोते बिलखते परिवार का दुःख
देखा न जाए कैसा यह हाल है
क्या से क्या होने लगा देश में
क्यूं सब का घर यूं बेहाल है

जमीन पर हाहाकार हो गया
पाताल भी आकर अब रो गया
नही थम रही आंसूओं की डोर
यह कैसा हुआ सब घनघोर है

किस बात की सजा मिल रही
कैसे यह सब के साथ दगा कर रही
रोक नही सका कोई किसी को
मौत पर बस कफ़न का ही शोर है

अजीत कुमार तलवार
मेरठ

208 Views
You may also like:
✍️वास्तविकता✍️
'अशांत' शेखर
" विचित्र उत्सव "
Dr Meenu Poonia
कड़वा सच
Rakesh Pathak Kathara
★प्रकृति: तथा तत्वबोधः★
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
*बुलाता रहा (आध्यात्मिक गीतिका)*
Ravi Prakash
✍️तकदीर-ए-मुर्शद✍️
'अशांत' शेखर
इच्छाओं का घर
Anamika Singh
गरीब लड़की का बाप है।
Taj Mohammad
परिवार
सूर्यकांत द्विवेदी
पंछी हमारा मित्र
AMRESH KUMAR VERMA
खामोश रह कर हमने भी रख़्त-ए-सफ़र को चुन लिया
शिवांश सिंघानिया
पिता की छांव
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
जावेद कक्षा छः का छात्र कला के बल पर कई...
Shankar J aanjna
आज़ादी का परचम
Rekha Drolia
में और मेरी बुढ़िया
Ram Krishan Rastogi
वो हमें दिन ब दिन आजमाते रहे।
सत्य कुमार प्रेमी
पत्थर दिल है।
Taj Mohammad
यह कैसा प्यार है
Anamika Singh
जून की दोपहर (कविता)
Kanchan Khanna
*पापा … मेरे पापा …*
Neelam Chaudhary
शमा से...!!!
Kanchan Khanna
जीने का हुनर आता
Anamika Singh
Father's Compassion
Buddha Prakash
तेरी सूरत
DESH RAJ
चलो जिन्दगी को फिर से।
Taj Mohammad
* साहित्य और सृजनकारिता *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
जीवन के आधार पिता
Kavita Chouhan
* तु मेरी शायरी *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
अहंकार
AMRESH KUMAR VERMA
I could still touch your soul every time it rains.
Manisha Manjari
Loading...