Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 Feb 2023 · 1 min read

💐प्रेम कौतुक-179💐

यह इश्क़ भी सवालों के घेरे में हैं,
क्यों दिल नहीं मिलते सबेरे में हैं।।
©®अभिषेक: पाराशरः “आनन्द”

Language: Hindi
163 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
चौपई छंद ( जयकरी / जयकारी छंद और विधाएँ
चौपई छंद ( जयकरी / जयकारी छंद और विधाएँ
Subhash Singhai
कविता पर दोहे
कविता पर दोहे
Ram Krishan Rastogi
भूत अउर सोखा
भूत अउर सोखा
आकाश महेशपुरी
ऐसा इजहार करू
ऐसा इजहार करू
Basant Bhagawan Roy
# महुआ के फूल ......
# महुआ के फूल ......
Chinta netam " मन "
‼ ** सालते जज़्बात ** ‼
‼ ** सालते जज़्बात ** ‼
Dr Manju Saini
टैगोर
टैगोर
Aman Kumar Holy
तब याद तुम्हारी आती है (गीत)
तब याद तुम्हारी आती है (गीत)
संतोष तनहा
#शेर
#शेर
*Author प्रणय प्रभात*
** The Highway road **
** The Highway road **
Buddha Prakash
शीर्षक – वह दूब सी
शीर्षक – वह दूब सी
Manju sagar
सोच के रास्ते
सोच के रास्ते
Dr fauzia Naseem shad
"परिवार क्या है"
Dr. Kishan tandon kranti
देश भक्त का अंतिम दिन
देश भक्त का अंतिम दिन
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
घर आवाज़ लगाता है
घर आवाज़ लगाता है
Surinder blackpen
सब गुण संपन्य छी मुदा बहिर बनि अपने तालें नचैत छी  !
सब गुण संपन्य छी मुदा बहिर बनि अपने तालें नचैत छी !
DrLakshman Jha Parimal
विषय :- काव्य के शब्द चुनाव पर |
विषय :- काव्य के शब्द चुनाव पर |
Sûrëkhâ Rãthí
💐परिवारे मातु: च भागिन्या: च धर्म:💐
💐परिवारे मातु: च भागिन्या: च धर्म:💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
✍️I am a Laborer✍️
✍️I am a Laborer✍️
'अशांत' शेखर
सम्पूर्ण सनातन
सम्पूर्ण सनातन
Jeewan Singh 'जीवनसवारो'
युगांतर
युगांतर
सूर्यकांत द्विवेदी
" गौरा "
Dr Meenu Poonia
अजनबी बनकर आये थे हम तेरे इस शहर मे,
अजनबी बनकर आये थे हम तेरे इस शहर मे,
डी. के. निवातिया
सावन आया
सावन आया
Neeraj Agarwal
एक दिन यह समय भी बदलेगा
एक दिन यह समय भी बदलेगा
कवि दीपक बवेजा
अश्रुपात्र ... A glass of tears भाग - 5
अश्रुपात्र ... A glass of tears भाग - 5
Dr. Meenakshi Sharma
पप्पू और पॉलिथीन
पप्पू और पॉलिथीन
मनोज कर्ण
तीन शेर
तीन शेर
Ravi Prakash
कुछ तो है
कुछ तो है
मानक लाल मनु
अपने दिल को।
अपने दिल को।
Taj Mohammad
Loading...