Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Apr 14, 2022 · 1 min read

यही है भीम की महिमा

कि जिसने तोड़ जंजीरें, हमें पानी पिलाया है,
दिला के हक यहाँ सबका, हमें जीना सिखाया है।
उसे यूँ भूलकर ना जी सकोगे यार तुम सुन लो,
न भूलो भीम को यारों, जो इस काबिल बनाया है।

जो लड़कर भी जमाने से, न हारे भीम है सच्चा,
मिटा दे छूत का टिका,वही इंसान है पक्का।
न जाने आज भी क्यों भीम को जाने नहीं हो तुम,
यही है भीम की महिमा, बने हो शेर का बच्चा।

न पूजो भीम को यारों, कभी चाहा नही ऐसा,
यही अरदास है मेरी, बनो सब भीम के जैसा।
तू पढ़कर जान लो अधिकार बस इतना ही चाहे वो
यही भीमा की चाहत है,सुने हो यार तुम जैसा।
✍️जटाशंकर”जटा”
14/04/2022

4 Likes · 2 Comments · 173 Views
You may also like:
मेरा गुरूर है पिता
VINOD KUMAR CHAUHAN
ख्वाब
Swami Ganganiya
शायद...
Dr. Alpa H. Amin
मेरा पेड़
उमेश बैरवा
नशा नहीं सुहाना कहर हूं मैं
Dr Meenu Poonia
उपहार (फ़ादर्स डे पर विशेष)
drpranavds
दंगा पीड़ित
Shyam Pandey
✍️मैं आज़ाद हूँ (??)✍️
"अशांत" शेखर
उम्मीद का चराग।
Taj Mohammad
✍️हे शहीद भगतसिंग...!✍️
"अशांत" शेखर
✍️प्रकृति के नियम✍️
"अशांत" शेखर
ग्रीष्म ऋतु भाग ५
Vishnu Prasad 'panchotiya'
कलम
Dr Meenu Poonia
किस्मत एक ताना...
Sapna K S
ईश्वरीय फरिश्ता पिता
AMRESH KUMAR VERMA
धरती की अंगड़ाई
श्री रमण
'हाथी ' बच्चों का साथी
Buddha Prakash
मेरे हाथो में सदा... तेरा हाथ हो..
Dr. Alpa H. Amin
*!* हट्टे - कट्टे चट्टे - बट्टे *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
An abeyance
Aditya Prakash
याद मेरी तुम्हे आती तो होगी
Ram Krishan Rastogi
कनिष्ठ रूप में
श्री रमण
【9】 *!* सुबह हुई अब बिस्तर छोडो *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
शहीद का पैगाम!
Anamika Singh
शहर को क्या हुआ
Anamika Singh
बरसात आई है
VINOD KUMAR CHAUHAN
✍️मैं एक मजदुर हूँ✍️
"अशांत" शेखर
फिर कभी तुम्हें मैं चाहकर देखूंगा.............
Nasib Sabharwal
ज़िंदगी मयस्सर ना हुई खुश रहने की।
Taj Mohammad
तेरा मेरा नाता
Alok Saxena
Loading...