Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
Sep 9, 2017 · 1 min read

यही है दुनिया

कविता – – -( वर्ण पिरामिड)

रे
भोले
मनवा
दुनिया की
चालबाजियां
कब समझेगा
ओ मूरख नादान।

है
सब
भरम
दुनिया में
ना ही कुछ भी
सांचा है जग में
झूठ पैर पसारे।


प्राणी
ईश्वर
से तू डर
इक दिन तो
तुझे जाना ही है
शरण में उसी की।

—-रंजना माथुर दिनांक 20/08/2017
(मेरी स्व रचित व मौलिक रचना)
©

290 Views
You may also like:
समय को भी तलाश है ।
Abhishek Pandey Abhi
मेरे पापा
Anamika Singh
सब अपने नसीबों का
Dr fauzia Naseem shad
बहुआयामी वात्सल्य दोहे
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
पिता है भावनाओं का समंदर।
Taj Mohammad
सागर ही क्यों
Shivkumar Bilagrami
पिता जी
Rakesh Pathak Kathara
रंग हरा सावन का
श्री रमण 'श्रीपद्'
माँ, हर बचपन का भगवान
Pt. Brajesh Kumar Nayak
नदी की पपड़ी उखड़ी / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
बाबूजी! आती याद
श्री रमण 'श्रीपद्'
✍️बड़ी ज़िम्मेदारी है ✍️
Vaishnavi Gupta
धरती की अंगड़ाई
श्री रमण 'श्रीपद्'
हम सब एक है।
Anamika Singh
बुद्ध धाम
Buddha Prakash
आ ख़्वाब बन के आजा
Dr fauzia Naseem shad
'फूल और व्यक्ति'
Vishnu Prasad 'panchotiya'
"सूखा गुलाब का फूल"
Ajit Kumar "Karn"
तुम साथ अगर देते नाकाम नहीं होता
Dr Archana Gupta
इश्क कोई बुरी बात नहीं
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
टूट कर की पढ़ाई...
आकाश महेशपुरी
नफरत की राजनीति...
मनोज कर्ण
कोई खामोशियां नहीं सुनता
Dr fauzia Naseem shad
पहाड़ों की रानी शिमला
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
प्रेम रस रिमझिम बरस
श्री रमण 'श्रीपद्'
अनामिका के विचार
Anamika Singh
सृजन कर्ता है पिता।
Taj Mohammad
पिता - जीवन का आधार
आनन्द कुमार
कोई हमदर्द हो गरीबी का
Dr fauzia Naseem shad
हर घर तिरंगा
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
Loading...