Sep 2, 2016 · 1 min read

यहां से तुम तो इलेक्शन भी जीत सकते हो

ज़मीनें मिलती हैं और आसमान मिलते हैं
नसीब वालों को दोनो ..जहान मिलते हैं
………….
हमें खबर है बा ज़ाहिर निकाह होता है
मगर ये सच है कि दो खानदान मिलते हैं
………….
मैं हस्बे हाल हमेशा. मिसाल देता हूँ
मेरी कुतुब में हमेशा निशान मिलते हैं
……………..
यक़ीन कीजे कि पैसा यहाँ नहीं चलता
सिफारिशों से यहां पर मकान मिलते हैं
………………
नहीं नहीं यहाँ अम्नो सुकूँ नहीं मिलता
क़दम क़दम पे यहां तालिबान मिलते हैं
……………
यहां से तुम तो इलेक्शन भी जीत सकते हो
तुम्हें पता है …..यहाँ बे ज़बान मिलते हैं

124 Views
You may also like:
सारे ही चेहरे कातिल हैं।
Taj Mohammad
ग़ज़ल
kamal purohit
दोस्त जीवन में एक सच्चा दोस्त ज़रूर कमाना….
Piyush Goel
💐प्रेम की राह पर-34💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
♡ तेरा ख़याल ♡
Dr. Alpa H.
यह कौन सा विधान है
Vishnu Prasad 'panchotiya'
महँगाई
आकाश महेशपुरी
पेड़ों का चित्कार...
Chandra Prakash Patel
पिता हैं छाँव जैसे
अंकित शर्मा 'इषुप्रिय'
सनातन संस्कृति
मनोज कर्ण
माँ
DR ARUN KUMAR SHASTRI
*तजकिरातुल वाकियात* (पुस्तक समीक्षा )
Ravi Prakash
1-अश्म पर यह तेरा नाम मैंने लिखा2- अश्म पर मेरा...
Pt. Brajesh Kumar Nayak
संकोच - कहानी
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
अब कोई कुरबत नहीं
Dr. Sunita Singh
ये पहाड़ कायम है रहते ।
Buddha Prakash
"मैंने दिल तुझको दिया"
Ajit Kumar "Karn"
# जज्बे सलाम ...
Chinta netam मन
बंदर मामा गए ससुराल
Manu Vashistha
कौन है
Rakesh Pathak Kathara
कन्यादान क्यों और किसलिए [भाग ५]
Anamika Singh
"सुनो एक सैर पर चलते है"
Lohit Tamta
जो चाहे कर सकता है
Alok kumar Mishra
In love, its never too late, or is it?
Abhineet Mittal
रिश्तों की कसौटी
VINOD KUMAR CHAUHAN
बाबासाहेब 'अंबेडकर '
Buddha Prakash
पढ़ाई-लिखाई एक बोझ
AMRESH KUMAR VERMA
मन की मुराद
मनोज कर्ण
आज की नारी हूँ
Anamika Singh
ग़ज़ल
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
Loading...