Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 Sep 2016 · 1 min read

यहां से तुम तो इलेक्शन भी जीत सकते हो

ज़मीनें मिलती हैं और आसमान मिलते हैं
नसीब वालों को दोनो ..जहान मिलते हैं
………….
हमें खबर है बा ज़ाहिर निकाह होता है
मगर ये सच है कि दो खानदान मिलते हैं
………….
मैं हस्बे हाल हमेशा. मिसाल देता हूँ
मेरी कुतुब में हमेशा निशान मिलते हैं
……………..
यक़ीन कीजे कि पैसा यहाँ नहीं चलता
सिफारिशों से यहां पर मकान मिलते हैं
………………
नहीं नहीं यहाँ अम्नो सुकूँ नहीं मिलता
क़दम क़दम पे यहां तालिबान मिलते हैं
……………
यहां से तुम तो इलेक्शन भी जीत सकते हो
तुम्हें पता है …..यहाँ बे ज़बान मिलते हैं

179 Views
You may also like:
लाल में तुम ग़ुलाब लगती हो
D.k Math { ਧਨੇਸ਼ }
जब-जब देखूं चाँद गगन में.....
अश्क चिरैयाकोटी
दस्तावेज बोलते हैं (शोध-लेख)
Ravi Prakash
महंगाई के दोहे
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
#मोहब्बत मेरी
Seema 'Tu hai na'
अल्फाज़ ए ताज भाग-1
Taj Mohammad
तय करो किस ओर हो तुम
Shekhar Chandra Mitra
✍️मैले है किरदार
'अशांत' शेखर
इन ख़यालों के परिंदों को चुगाने कब से
Anis Shah
#नाव
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
मैं मेरा परिवार और वो यादें...💐
लवकुश यादव "अज़ल"
तपस्या और प्रेम की साकार प्रतिमा है 'नारी'
पंकज कुमार शर्मा 'प्रखर'
एक पत्नि की मन की भावना
Ram Krishan Rastogi
बाधाओं से लड़ना होगा
दशरथ रांकावत 'शक्ति'
सांसें कम पड़ गई
Shriyansh Gupta
!! नफरत सी है मुझे !!
गायक और लेखक अजीत कुमार तलवार
नई जिंदगानी
AMRESH KUMAR VERMA
डॉक्टर की दवाई
Buddha Prakash
"आधुनिक काल के महानतम् गणितज्ञ श्रीनिवास रामानुजन्"
Pravesh Shinde
“सावधान व्हाट्सप्प मित्र ”
DrLakshman Jha Parimal
रात तन्हा सी
Dr fauzia Naseem shad
उम्मीदों का सूरज
Shoaib Khan
विश्वासघात
Mamta Singh Devaa
पिता हैं धरती का भगवान।
Vindhya Prakash Mishra
मुकबल ख्वाब करने हैं......
कवि दीपक बवेजा
भगवान श्री परशुराम जयंती
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
मार्मिक फोटो
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
- दिल का दर्द किसे करे बयां -
bharat gehlot
$दोहे- हरियाली पर
आर.एस. 'प्रीतम'
'नर्क के द्वार' (कृपाण घनाक्षरी)
Godambari Negi
Loading...