Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings

यहाँ इश्क़ के सब ही मारे मिलेंगे

ग़ज़ल
———–
तेरे बज़्म में हम तो आते रहेंगे
ग़ज़ल के दिखाते उजाले रहेंगे

जफ़ाएँ करो तुम ये मर्ज़ी तुम्हारी
मुहब्बत सदा हम निभाते रहेंगे

वो हक़ मारकर के ग़रीबों के मुँह से
सदा छीनते ही निवाले रहेंगे

यहाँ दिल जलों की सजती है महफिल
यहाँ इश्क़ के सब ही मारे मिलेंगे

मेरी जिन्दगी में जो तुम आ गये हो
तो अब रोज़ मौसम सुहाने रहेंगे

कहा है ये उसने मिलेंगे जभी हम
वही जामे-उल्फ़त पिलाते रहेंगे

मिटा दें अँधेरा तनफ्फुर के “प्रीतम”
दिये प्यार के हम जलाते रहेंगे

122 122 122 122
प्रीतम राठौर भिनगाई
श्रावस्ती ( उ०प्र०)
07/09/2017
????????

135 Views
You may also like:
ये शिक्षामित्र है भाई कि इसमें जान थोड़ी है
आकाश महेशपुरी
कन्यादान क्यों और किसलिए [भाग१]
Anamika Singh
कोई मंझधार में पड़ा हैं
VINOD KUMAR CHAUHAN
बंशी बजाये मोहना
लक्ष्मी सिंह
आह! भूख और गरीबी
Dr fauzia Naseem shad
माँ
आकाश महेशपुरी
अपनी नज़र में खुद अच्छा
Dr fauzia Naseem shad
बुढ़ापे में अभी भी मजे लेता हूं
Ram Krishan Rastogi
आज अपना सुधार लो
Anamika Singh
पिता
Satpallm1978 Chauhan
"समय का पहिया"
Ajit Kumar "Karn"
भोजपुरी के संवैधानिक दर्जा बदे सरकार से अपील
आकाश महेशपुरी
दिल में रब का अगर
Dr fauzia Naseem shad
पापा
सेजल गोस्वामी
Little sister
Buddha Prakash
✍️प्यारी बिटिया ✍️
Vaishnavi Gupta
द माउंट मैन: दशरथ मांझी
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
श्री राम स्तुति
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
✍️आशिकों के मेले है ✍️
Vaishnavi Gupta
बोझ
आकांक्षा राय
बाबूजी! आती याद
श्री रमण 'श्रीपद्'
"बदलाव की बयार"
Ajit Kumar "Karn"
जादूगर......
Vaishnavi Gupta
रिश्तों में बढ रही है दुरियाँ
Anamika Singh
पिता
विजय कुमार 'विजय'
हमारी सभ्यता
Anamika Singh
राष्ट्रवाद का रंग
मनोज कर्ण
ठोकर खाया हूँ
Anamika Singh
#पूज्य पिता जी
आर.एस. 'प्रीतम'
कोई मरहम
Dr fauzia Naseem shad
Loading...