Oct 2, 2016 · 1 min read

यथार्थ

क्या साथ लाएं थे
क्या साथ ले जाएंगे
कहते अक्सर लोग
जूठे लोग
झूठा जीवन
जीते लोग
सब जानते हैं
न जाने कितने
अपूर्ण सपने
अधूरी ख्वाहिशें
असंख्य अनकही बातें
साथ जाएंगी
जगत से अज्ञात
जगत के लिए।

-डॉ विजेंद्र प्रताप सिंह

144 Views
You may also like:
ब्रेकिंग न्यूज़
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
बेटी का पत्र माँ के नाम (भाग २)
Anamika Singh
$ग़ज़ल
आर.एस. 'प्रीतम'
एहसासों का समन्दर लिए बैठा हूं।
Taj Mohammad
🔥😊 तेरे प्यार ने
N.ksahu0007@writer
बाबा साहेब जन्मोत्सव
Mahender Singh Hans
परवाना बन गया है।
Taj Mohammad
दर्द भरे गीत
Dr.sima
विश्व पुस्तक दिवस (किताब)
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
वेवफा प्यार
Anamika Singh
#जातिबाद_बयाना
D.k Math
इश्क नज़रों के सामने जवां होता है।
Taj Mohammad
गढ़वाली चित्रकार मौलाराम
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
उस दिन
Alok Saxena
लहजा
सिद्धार्थ गोरखपुरी
जगाओ हिम्मत और विश्वास तुम
gurudeenverma198
ऊँच-नीच के कपाट ।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
मैं उनको शीश झुकाता हूँ
Dheerendra Panchal
💐💐प्रेम की राह पर-11💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
** भावप्रतिभाव **
Dr. Alpa H.
तप रहे हैं प्राण भी / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
ब्रेक अप
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
दो बिल्लियों की लड़ाई (हास्य कविता)
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
बँटवारे का दर्द
मनोज कर्ण
बदल रहा है देश मेरा
Anamika Singh
करते रहिये काम
सूर्यकांत द्विवेदी
बांस का चावल
सिद्धार्थ गोरखपुरी
दया के तुम हो सागर पापा।
Taj Mohammad
जीवन-रथ के सारथि_पिता
मनोज कर्ण
Motivation ! Motivation ! Motivation !
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
Loading...