Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jul 4, 2022 · 1 min read

यथार्था,,, दर्पणता,,, सरलता।

यथार्था,,,
वास्तिवक्ता प्रदान करती है!!!
दर्पणता,,,
पारदर्शिता प्रदान करती है!!!
सरलता,,,
निष्पक्षिता प्रदान करती है!!!

फिर क्यों ना मानव तू इनका,
अनुशरण करता है!!!
क्यों ना इन गुणों को,
तू धारण करता है!!!
सर्वदा व्यभिचारिता,
दुष्टता में लीन विचरता रहता है!!!

कहते है कलयुग आ गया है,
नीचता आ गई है!!!
युग तो युग ही रहते है,,,
बस नाम बदल जाते है,,,
हां इस कलयुग में हृदयों में,,,
संकिर्णता आ गई है!!!

प्रकृति को देख मानव,
आदि अनादि काल से!!!
कभी परिवर्तन हुआ,
इसके स्वरूप आकार में!!!
कल भी चंद्र सूर्य दिन रात्रि थे!!!
आज भी चंद्र सूर्य दिन रात्रि है!!!

परंतु मानव तू इसको भी,,,
परिवर्तित करना चाह रहा है!!!
तू इसकी सुंदरता पर सुबह शाम,,,
बस घाव पर घाव दे रहा है!!!
परंतु मानव ये प्रकृति ईश्वर है,
ये ना कभी परिवर्तित होगी!!!
छेड़कर इसको तू अपने कृत्यों से,
केवल अपना काल बुला रहा है!!!

प्रत्येक क्रिया के उपरांत,
प्रतिक्रिया होती है!!!
प्रत्येक कार्य की,
शुद्ध प्रक्रिया होती है!!!

अंधेरो को हटाने को,
दीपक प्रज्वलित होता है!!!
दुष्टों को मिटाने को,,,
ईश्वर अवतरित होता है!!!

हे मानव प्रकृति के,
विपरीत मत जा!!!
तेरी प्रत्येक कष्टों का निवारण,
इसके पास है तू इसके पास आ!!!

प्रकृति से प्रेम कर,
मानव तेरा कल्याण होगा!!!
तू सदा मुस्कुराएगा,
सोच कभी एकांत में,
इन सबका कोई भी कारण होगा,,,
परंतु प्राकृति से ही इनका निवारण होगा!!!

ताज मोहम्मद
लखनऊ

1 Like · 2 Comments · 65 Views
You may also like:
दुनिया की फ़ितरत
Anamika Singh
बेजुबान जानवर अपने दोस्त
Manoj Tanan
मुकरिया__ चाय आसाम वाली
Manu Vashistha
गम तारी है।
Taj Mohammad
सद्आत्मा शिवाला
Pt. Brajesh Kumar Nayak
प्यार जैसा ही प्यारा होता है
Dr fauzia Naseem shad
कौन था वो ?...
मनोज कर्ण
'इरशाद'
Godambari Negi
" COMMUNICATION GAP AMONG FRIENDS "
DrLakshman Jha Parimal
वक्त को कब मिला है ठौर
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
न झुकेगे हम
AMRESH KUMAR VERMA
*देखने लायक नैनीताल (गीत)*
Ravi Prakash
" लिखने की कला "
DrLakshman Jha Parimal
शहीद-ए-आजम भगतसिंह
Dalveer Singh
✍️ग़लतफ़हमी✍️
'अशांत' शेखर
मिलन
Anamika Singh
@@कामना च आवश्यकता च विभेदः@@
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
अब ज़िन्दगी ना हंसती है।
Taj Mohammad
नेता बनि के आवे मच्छर
आकाश महेशपुरी
महामोह की महानिशा
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
बताओ मुझे
Anamika Singh
ए- वृहत् महामारी गरीबी
AMRESH KUMAR VERMA
✍️कांटने लगते है घर✍️
'अशांत' शेखर
निगाह-ए-यास कि तन्हाइयाँ लिए चलिए
शिवांश सिंघानिया
चिन्ता और चिता में अन्तर
Ram Krishan Rastogi
धार्मिक आस्था एवं धार्मिक उन्माद !
Shyam Sundar Subramanian
“ आत्ममंथन; मिथिला,मैथिली आ मैथिल “
DrLakshman Jha Parimal
मैंने देखा हैं मौसम को बदलतें हुए
D.k Math { ਧਨੇਸ਼ }
क्यों ना नये अनुभवों को अब साथ करें?
Manisha Manjari
चिड़ियाँ
Anamika Singh
Loading...