Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
29 Aug 2020 · 1 min read

ग़ज़ल- मज़दूर

बनाता वाहनों को है वो इक मज़दूर होता है
मगर पैदल ही चलता है बहुत मजबूर होता है

बनाता है किला वो ताज, मीनारें, पिरामिड भी
मगर गुमनाम रहता है कहाँ मशहूर होता है

दरो दीवार पर करता सदा जो पेंट औ पालिश
कि चेहरे से उसी के दूर अक्सर नूर होता है

बहुत होता है अपमानित बहुत सी तोहमतें मिलतीं
मगर सब पेट की खातिर उसे मंज़ूर होता है

गुजरती पीढ़ियां उसकी किराये के मकानों में
कि घर का ख़्वाब रोज़ाना ही चकनाचूर होता है

मुनासिब मिल नहीं पाते उसे पैसे पसीने के
यही सब सोच कर ‘आकाश’ वो रंजूर होता है

– आकाश महेशपुरी
दिनांक- 28/08/2020

12 Likes · 7 Comments · 985 Views
You may also like:
व्यास पूर्णिमा
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
मां
Umender kumar
बंद पंछी
लक्ष्मी सिंह
✍️उम्मीदों की गहरी तड़प
'अशांत' शेखर
फिर भी नदियां बहती है
जगदीश लववंशी
Even If I Ever Died
Manisha Manjari
💐💐प्रेम की राह पर-73💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
आए आए अवध में राम
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
#कविता//ऊँ नमः शिवाय!
आर.एस. 'प्रीतम'
गर्म साँसें,जल रहा मन / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
मां का घर
Yogi B
कैसे आंखों का
Dr fauzia Naseem shad
ये कैसी आज़ादी - कविता
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
सफलता की आधारशिला सच्चा पुरुषार्थ
पंकज कुमार शर्मा 'प्रखर'
आंधी में दीया
Shekhar Chandra Mitra
*मुर्गे का चढ़ावा( अतुकांत कविता)*
Ravi Prakash
🙏स्कंदमाता🙏
पंकज कुमार कर्ण
लोकतंत्र में मुर्दे
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
साँझ
Alok Saxena
रसिया यूक्रेन युद्ध विभीषिका
Ram Krishan Rastogi
तमाशाई बन गए हैं।
Taj Mohammad
अत्याचार
AMRESH KUMAR VERMA
【34】*!!* आग दबाये मत रखिये *!!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
लड़ते रहो
Vivek Pandey
कैसी अजब कहानी लिखूं
कवि दीपक बवेजा
# दोस्त .....
Chinta netam " मन "
बॉर्डर पर किसान
Shriyansh Gupta
नीड़ फिर सजाना है
Saraswati Bajpai
कहाँ मिलेंगे तेरे क़दमों के निशाँ
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
मेरा परिवार
Anamika Singh
Loading...