Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Mar 13, 2022 · 1 min read

मौसम

मौसम का न कोय ठाँव
कब कैसा पर्यय दे डालें ?
हरघटी रज:स्राव यहां का
रहता न एक जैसा हमेशा ।

अवधि बदलता रहता सदा
इसमें ना कोई दुराय यहां
इसके अनुकूल सदा हमें
ढलना चाहिए इस भव में ।

कभी निदाघ, कभी पाला
कभी ताप तो कभी छाया
सदा मौसम चक्र यहां पर
चलता रहता इस जग में ।

मासिक धर्म का न ठिकाना
कब क्या हो जाए खलक में
आबोहवा करता है तबदीली
तासीर का सिद्धांत बदलाव ।

अमरेश कुमार वर्मा
जवाहर नवोदय विद्यालय बेगूसराय, बिहार

2 Likes · 133 Views
You may also like:
तुम्हीं हो मां
Krishan Singh
सुरज और चाँद
Anamika Singh
लूटपातों की हयात
AMRESH KUMAR VERMA
साहित्यकारों से
Rakesh Pathak Kathara
✍️छांव और धुप✍️
'अशांत' शेखर
✍️पर्दा-ताक हुवा नहीं✍️
'अशांत' शेखर
हमदर्द कैसे-कैसे
Shivkumar Bilagrami
कलयुग की माया
डी. के. निवातिया
मेरी वाणी
Seema Tuhaina
अधूरा यज्ञ (नाटक)*
Ravi Prakash
प्यार करके।
Taj Mohammad
कन्यादान क्यों और किसलिए [भाग ५]
Anamika Singh
निभाता उम्रभर तेरा साथ
gurudeenverma198
सही मार्ग अपनाएँ
Anamika Singh
हर घर तिरंगा प्यारा हो - डी के निवातिया
डी. के. निवातिया
पितृ वंदना
संजीव शुक्ल 'सचिन'
# उम्मीद की किरण #
Dr.Alpa Amin
गीत
Nityanand Vajpayee
मुकरियां_ गिलहरी
Manu Vashistha
सच एक दिन
gurudeenverma198
जीवन की दुर्दशा
Dr fauzia Naseem shad
कौन कहता कि स्वाधीन निज देश है?
Pt. Brajesh Kumar Nayak
" कोरोना "
Dr Meenu Poonia
गंगा दशहरा गंगा जी के प्रकाट्य का दिन
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
कोई मरहम
Dr fauzia Naseem shad
पिता के रिश्ते में फर्क होता है।
Taj Mohammad
मां ‌धरती
AMRESH KUMAR VERMA
युद्ध के उन्माद में है
Shivkumar Bilagrami
हौसलों की उड़ान।
Taj Mohammad
महान गुरु श्री रामकृष्ण परमहंस की काव्यमय जीवनी (पुस्तक-समीक्षा)
Ravi Prakash
Loading...