Oct 6, 2016 · 1 min read

‘मौसम’आधारित कह- मुकरियां

____________________________
(१)
दबे पाँव जो चलकर आवे,
हमको अपने गले लगावे,
मन भा जावे रूप विहंगम,
क्यों सखि सज्जन? ना सखि मौसम !
___________________________
(२)
आये तो छाये हरियाली,
उसकी गंध करे मतवाली,
मदहोशी का छाये आलम,
क्यों सखि सज्जन? ना सखि मौसम !
__________________________
(३)
जिसकी आस में धक् धक् बोले,
जिसकी चाह में मनवा डोले,
दिल से दिल का होता संगम,
क्यों सखि सज्जन? ना सखि मौसम !
__________________________
(४)
जिसकी राह तके ये तन-मन,
जिसके आते छलके यौवन,
झिमिर-झिमिर झरि आये सरगम,
क्यों सखि सज्जन? ना सखि मौसम !
__________________________
(५)
प्रेम वृष्टि हम पर वो करता,
दुःख हमारे सब वो हरता,
शांत अग्नि हो शीतल मरहम,
क्यों सखि सज्जन? ना सखि मौसम !
__________________________
–इंजी० अम्बरीष श्रीवास्तव ‘अम्बर’

83 Views
You may also like:
*पापा … मेरे पापा …*
Neelam Chaudhary
💐प्रेम की राह पर-28💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
यह तो वक़्त ही बतायेगा
gurudeenverma198
खिला प्रसून।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
शायद...
Dr. Alpa H.
'हाथी ' बच्चों का साथी
Buddha Prakash
न कोई जगत से कलाकार जाता
आकाश महेशपुरी
ग्रीष्म ऋतु भाग ३
Vishnu Prasad 'panchotiya'
Little sister
Buddha Prakash
पानी यौवन मूल
Jatashankar Prajapati
सुमंगल कामना
Dr.sima
नेकी कर इंटरनेट पर डाल
हरीश सुवासिया
यादें आती हैं
Krishan Singh
तुझ पर ही निर्भर हैं....
Dr. Alpa H.
An abeyance
Aditya Prakash
【34】*!!* आग दबाये मत रखिये *!!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
नई सुबह रोज
Prabhudayal Raniwal
*हिम्मत मत हारो ( गीत )*
Ravi Prakash
I Have No Desire To Be Found At Any Cost
Manisha Manjari
सत्य भाष
AJAY AMITABH SUMAN
है रौशन बड़ी।
Taj Mohammad
💐प्रेम की राह पर-29💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
मेरा पेड़
उमेश बैरवा
मुकरिया__ चाय आसाम वाली
Manu Vashistha
दुलहिन परिक्रमा
मनोज कर्ण
बड़ा भाई बोल रहा हूं
Satpallm1978 Chauhan
رہنما مل گیا
अरशद रसूल /Arshad Rasool
वैवाहिक वर्षगांठ मुक्तक
अभिनव मिश्र अदम्य
नींबू के मन की वेदना
Ram Krishan Rastogi
पापा जी
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
Loading...