Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Feb 2023 · 1 min read

मौला के घर देर है पर,

मौला के घर देर है पर,
न कभी अंधेर है।
होती न आवाज कोई,
उस खुदा की मार में।
सतीश सृजन

102 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Satish Srijan
View all
You may also like:
मेहनत
मेहनत
AMRESH KUMAR VERMA
तारों का झूमर
तारों का झूमर
Dr. Seema Varma
मुझें ना दोष दे ,तेरी सादगी का ये जादु
मुझें ना दोष दे ,तेरी सादगी का ये जादु
Sonu sugandh
*वरमाला वधु हाथ में, मन में अति उल्लास (कुंडलियां)*
*वरमाला वधु हाथ में, मन में अति उल्लास (कुंडलियां)*
Ravi Prakash
उसने
उसने
Ranjana Verma
सुख दुख
सुख दुख
Sûrëkhâ Rãthí
कभी चुभ जाती है बात,
कभी चुभ जाती है बात,
नेताम आर सी
जीवन-रथ के सारथि_पिता
जीवन-रथ के सारथि_पिता
मनोज कर्ण
Do you know ??
Do you know ??
Ankita Patel
शिवाजी महाराज विदेशियों की दृष्टि में ?
शिवाजी महाराज विदेशियों की दृष्टि में ?
Pravesh Shinde
💐💐मेरी इश्क़ की गल टॉपर निकली💐💐
💐💐मेरी इश्क़ की गल टॉपर निकली💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
धरती की फरियाद
धरती की फरियाद
Anamika Singh
लम्बा पर सकडा़ सपाट पुल
लम्बा पर सकडा़ सपाट पुल
Seema gupta,Alwar
बिटिया दिवस
बिटिया दिवस
Ram Krishan Rastogi
हिचकी
हिचकी
Bodhisatva kastooriya
सहेजे रखें संकल्प का प्रकाश
सहेजे रखें संकल्प का प्रकाश
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
" स्वतंत्रता क्रांति के सिंह पुरुष पंडित दशरथ झा "
DrLakshman Jha Parimal
श्रावण सोमवार
श्रावण सोमवार
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
!! एक चिरईया‌ !!
!! एक चिरईया‌ !!
Chunnu Lal Gupta
पेड़ के हिस्से की जमीन
पेड़ के हिस्से की जमीन
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
देश-प्रेम
देश-प्रेम
कवि अनिल कुमार पँचोली
भुलक्कड़ मामा
भुलक्कड़ मामा
Dr. Pradeep Kumar Sharma
2325.पूर्णिका
2325.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
RAKSHA BANDHAN
RAKSHA BANDHAN
डी. के. निवातिया
ज़िंदगानी
ज़िंदगानी
Shyam Sundar Subramanian
■ प्रश्न का उत्तर
■ प्रश्न का उत्तर
*Author प्रणय प्रभात*
तुम जो खुद को उदास
तुम जो खुद को उदास
Dr fauzia Naseem shad
बिन हमारे तुम एक दिन
बिन हमारे तुम एक दिन
gurudeenverma198
तुमसे ही से दिन निकलता है मेरा,
तुमसे ही से दिन निकलता है मेरा,
Er. Sanjay Shrivastava
-- ग़दर 2 --
-- ग़दर 2 --
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
Loading...