Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
Oct 1, 2017 · 1 min read

“मौन व्रत की जगह नहीं हैं, कवियों के संस्कारों में”

क्या लिख दूँ ऐ भारत मैं, तस्वीर तेरी अल्फाजों में
भूखे नंगे लोग मिलेगें हर कोने गलियारों में
सारी दुनिया मौन रहे पर हमकों तो कहना होगा
मौन व्रत की जगह नहीं हैं ,कवियों के संस्कारों में ।

सर्दी गर्मी सहते देखे, नंगे तन वो मौन रहे प्रकृति के प्रहारो पर
हमने रेशम की चादर चढते देखी, गुरुद्वारो और मजारो पर
छप्पन भोग चढे देखे, भगवान तुम्हारें मन्दिर में
भूख से बच्चें रोते देखे, उन्ही मन्दिर के द्वारो पर
ऐसा कितना और सहें…,
जिनको कहना वो मौन रहें
तेरी छवि बना दी स्वर्ग से सुन्दर
तुझ पर व्यंग अब कौन कहें
वो तस्वीर दिखानी होगी, जो दबी हुई कुछ ऊँची दीवारों में
मौन व्रत की जगह नहीं हैं, कवि तेरे संस्कारों में ।

सत्ताधारी बन बैठे जो, पर पहरेदार नहीं बन पायें
भारत तेरे पुजारी तेरा, सोलह श्रृंगार नहीं कर पायें
कुछ स्वप्न अधूरे छोड गये थे, जो भारत के निर्माता थे
वो स्वप्न आज भी उसी दशा में, कुछ भी साकार नहीं कर पाये
जब जब कलम उठेगी मेरी, सत्ता पर प्रहार लिखूँगा
अधिकारो की बात लिखूँगा, अनुचित का प्रतिकार लिखूँगा
तलवारों को ढाल बना कर, कलम को मैं संधान बना कर
तुम्हें बना कर दुल्हन जैसा, नया तेरा श्रृंगार लिखूँगा
गौर से समझों कर्तव्यो को, जो छिपे हुये अधिकारो में
मौन व्रत की जगह नहीं हैं कवियों के संस्कारों में ।

अखिलेश कुमार
देहरादून (उत्तराखण्ड)

2 Likes · 1761 Views
You may also like:
मेरे पिता है प्यारे पिता
Vishnu Prasad 'panchotiya'
आंसूओं की नमी
Dr fauzia Naseem shad
समसामयिक बुंदेली ग़ज़ल /
ईश्वर दयाल गोस्वामी
आह! भूख और गरीबी
Dr fauzia Naseem shad
पिता आदर्श नायक हमारे
Buddha Prakash
तुम वही ख़्वाब मेरी आंखों का
Dr fauzia Naseem shad
दर्द इतने बुरे नहीं होते
Dr fauzia Naseem shad
आपकी तारीफ
Dr fauzia Naseem shad
जिम्मेदारी और पिता
Dr. Kishan Karigar
वक़्त किसे कहते हैं
Dr fauzia Naseem shad
कैसे मैं याद करूं
Anamika Singh
माँ की परिभाषा मैं दूँ कैसे?
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
बहुआयामी वात्सल्य दोहे
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
ठोडे का खेल
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
क्या लगा आपको आप छोड़कर जाओगे,
Vaishnavi Gupta
जिस नारी ने जन्म दिया
VINOD KUMAR CHAUHAN
प्रेम रस रिमझिम बरस
श्री रमण 'श्रीपद्'
अधूरी बातें
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
तीन किताबें
Buddha Prakash
छलकता है जिसका दर्द
Dr fauzia Naseem shad
चलो दूर चलें
VINOD KUMAR CHAUHAN
ज़िंदगी को चुना
अंजनीत निज्जर
अधुरा सपना
Anamika Singh
सुन्दर घर
Buddha Prakash
साधु न भूखा जाय
श्री रमण 'श्रीपद्'
माँ, हर बचपन का भगवान
Pt. Brajesh Kumar Nayak
जय जगजननी ! मातु भवानी(भगवती गीत)
मनोज कर्ण
चलो एक पत्थर हम भी उछालें..!
मनोज कर्ण
पंचशील गीत
Buddha Prakash
मन की पीड़ा
Dr fauzia Naseem shad
Loading...