Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 Apr 2022 · 1 min read

मौन में गूंजते शब्द

शब्दों की कमी तो हमेशा रही, उनके व्यक्तित्त्व में,
पर भावनाओं की बारिश सदैव होती रही उस घर में।
कठोर आवरण तो ज़रूर था, उस वातावरण में,
परंतु करवाहट ना पनपने पाईं, किसी के मन में।
परीक्षाओं की कसौटियाँ तो खड़ी की गई, हर पल में,
परंतु आत्मसम्मान और आत्मनिर्भरता की शिक्षा भी मिली उस भागीरथ में।
अपने सपने तो हमेशा देखते थे, वो हमारे नयन में,
परंतु विश्वास की ड़ोर कभी टूटने ना दी हमारे चयन में।
जब भी स्वयं को घिरा पाया, मुश्किलों के दामन में,
तब तब उनको पाया, हमारे प्रबल समर्थन में।
अब आ चुके वो, उम्र के उस पहर में,
की पथराई आँखें हीं बस दिखती हैं, हर मौसम में।
जब भी सहारे को देते अपने हाथ, उनके हस्त कमल में,
शब्दों का प्रवाह महसूस होता है, उनके मौन के माध्यम में।
कभी कभी ऐसा भी सुनाई देता है, खामोशी की उस जंग में,
अगले जन्म में भी मैं बनूँगा तेरा पिता, विश्वास रख तू ऐसा अपने मन में।

-मनीषा मंजरी
-दरभंगा (बिहार)

Language: Hindi
Tag: कविता
11 Likes · 12 Comments · 413 Views
You may also like:
हयात की तल्ख़ियां
Shekhar Chandra Mitra
【11】 *!* टिक टिक टिक चले घड़ी *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
फ़ालतू बात यही है
gurudeenverma198
Shayri
श्याम सिंह बिष्ट
सदगुण ईश्वरीय श्रंगार हैं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
💐💐मृत्यु: प्रतिक्षणं समया आगच्छति💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
غزل - دینے والے نے ہمیں درد بھائی کم نہ...
Shivkumar Bilagrami
प्यार ~ व्यापार
D.k Math { ਧਨੇਸ਼ }
फीका त्यौहार
पाण्डेय चिदानन्द
सर रख कर रोए।
Taj Mohammad
चलना ही पड़ेगा
Mahendra Narayan
🚩मिलन-सुख की गजल-जैसा तुम्हें फैसन ने ढाला है
Pt. Brajesh Kumar Nayak
गिरते-गिरते - डी के निवातिया
डी. के. निवातिया
किसी पथ कि , जरुरत नही होती
Ram Ishwar Bharati
वर्तमान से वक्त बचा लो तुम निज के निर्माण में...
AJAY AMITABH SUMAN
दिल तुम्हें
Dr fauzia Naseem shad
चलो प्रेम का दिया जलायें
rkchaudhary2012
कभी मिलोगी तब सुनाऊँगा ---- ✍️ मुन्ना मासूम
मुन्ना मासूम
मुझसे मेरा हाल न पूछे
Shiva Awasthi
Love Is The Reason Behind
Manisha Manjari
भगवान की तलाश में इंसान
Ram Krishan Rastogi
*अटल जी की चौथी पुण्यतिथि पर भावपूर्ण श्रद्धांजलि*
Author Dr. Neeru Mohan
है पर्याप्त पिता का होना
अश्विनी कुमार
*स्वतंत्रता संग्राम के तपस्वी श्री सतीश चंद्र गुप्त एडवोकेट*
Ravi Prakash
तेरा साथ मुझको गवारा नहीं है।
सत्य कुमार प्रेमी
काव्य संग्रह से
Rishi Kumar Prabhakar
कृष्ण मुरारी
लक्ष्मी सिंह
चलो दूर चलें
VINOD KUMAR CHAUHAN
हिन्दू धर्म और अवतारवाद
पंकज कुमार शर्मा 'प्रखर'
कुरुक्षेत्र
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
Loading...