Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Apr 8, 2022 · 1 min read

मौन की पीड़ा

अभिव्यक्तियों में कितने
विराम सब लगे हैं ।
मन में बचा न संयम
अब शील सब दहे हैं ।
नवोढा सी मूक भाषा
कुछ बोलती नहीं है ।
पर मन में कितने प्रश्न
अनसुलझे से गहे हैं ।
वंचित सभी विकल्प
बस अनिवार्यता गहे है ।
बस एक स्वजन ये मन हैं
सब आवरण नये है ।
हर आवरण में इतने
प्रतिबिम्ब मिल रहे है ।
मस्तिष्क जड़ हुआ है
विस्मित सा हम खड़े हैं ।

78 Views
You may also like:
सरकारी नौकर
Dr Meenu Poonia
💐नव ऊर्जा संचार💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
समय के पंखों में कितनी विचित्रता समायी है।
Manisha Manjari
सत्य भाष
AJAY AMITABH SUMAN
चेतना के उच्च तरंग लहराओं रे सॉवरियाँ
Dr.sima
सत्य छिपता नहीं...
मनोज कर्ण
【3】 ¡*¡ दिल टूटा आवाज हुई ना ¡*¡
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
विश्वास और शक
Dr Meenu Poonia
नेताओं के घर भी बुलडोजर चल जाए
Dr. Kishan Karigar
बिछड़न [भाग २]
Anamika Singh
बदलते रिश्ते
पंकज कुमार "कर्ण"
सेहरा गीत परंपरा
Ravi Prakash
*कभी मिलता नहीं होता (मुक्तक)*
Ravi Prakash
राम नाम जप ले
Swami Ganganiya
बहुत कुछ अनकहा-सा रह गया है (कविता संग्रह)
Ravi Prakash
【9】 *!* सुबह हुई अब बिस्तर छोडो *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
पिता है भावनाओं का समंदर।
Taj Mohammad
تیری یادوں کی خوشبو فضا چاہتا ہوں۔
Dr.SAGHEER AHMAD SIDDIQUI
माँ पर तीन मुक्तक
Dr Archana Gupta
छंदों में मात्राओं का खेल
Subhash Singhai
ठंडे पड़ चुके ये रिश्ते।
Manisha Manjari
सरस्वती कविता
Ankit Halke jha Official's
शब्द नही है पिता जी की व्याख्या करने को।
Taj Mohammad
फूल की महक
DESH RAJ
एक नज़म [ बेकायदा ]
DR ARUN KUMAR SHASTRI
युद्ध सिर्फ प्रश्न खड़ा करता है [भाग६]
Anamika Singh
$तीन घनाक्षरी
आर.एस. 'प्रीतम'
कबीरा...
Sapna K S
बंदर भैया
Buddha Prakash
माँ की परिभाषा मैं दूँ कैसे?
Jyoti Khari
Loading...