Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Jun 2022 · 1 min read

मौत ने की हमसे साज़िश।

मौत ने की हमसे साज़िश वो बिन बताये ही आ गयी।।
ज़िन्दगी भी मेरी कुछ कम ना थी बताकर ही ना गयी।।

✍✍ताज मोहम्मद✍✍

1 Like · 98 Views
You may also like:
हम आज भी
Dr fauzia Naseem shad
पिता
Aruna Dogra Sharma
✍️बड़ी ज़िम्मेदारी है ✍️
Vaishnavi Gupta
छीन लेता है साथ अपनो का
Dr fauzia Naseem shad
कशमकश
Anamika Singh
कोशिशें हों कि भूख मिट जाए ।
Dr fauzia Naseem shad
शहीदों का यशगान
शेख़ जाफ़र खान
"निर्झर"
Ajit Kumar "Karn"
सवाल कोई नहीं
Dr fauzia Naseem shad
ज़िंदगी तुझसे
Dr fauzia Naseem shad
हमको जो समझे हमीं सा ।
Dr fauzia Naseem shad
प्यार की तड़प
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
✍️सूरज मुट्ठी में जखड़कर देखो✍️
'अशांत' शेखर
जीवन-रथ के सारथि_पिता
मनोज कर्ण
मुँह इंदियारे जागे दद्दा / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
आंखों पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
मेरे साथी!
Anamika Singh
चिराग जलाए नहीं
शेख़ जाफ़र खान
यादों की बारिश का कोई
Dr fauzia Naseem shad
हिन्दी साहित्य का फेसबुकिया काल
मनोज कर्ण
जय जय भारत देश महान......
Buddha Prakash
बे'बसी हमको चुप करा बैठी
Dr fauzia Naseem shad
क्या लगा आपको आप छोड़कर जाओगे,
Vaishnavi Gupta
ऐसे थे मेरे पिता
Minal Aggarwal
बँटवारे का दर्द
मनोज कर्ण
गीत- जान तिरंगा है
आकाश महेशपुरी
उसकी आदत में रह गया कोई
Dr fauzia Naseem shad
ऐ ज़िन्दगी तुझे
Dr fauzia Naseem shad
प्यार
Anamika Singh
"मेरे पिता"
vikkychandel90 विक्की चंदेल (साहिब)
Loading...