Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Feb 26, 2019 · 1 min read

मौत को गले लगाते हुए

एक कतरा ना बचा तन का साथियों
इस वतन की जमीं को बचाते हुए
याद रखना हमें तुस से है ये इल्तिजा
कह रही है यही आखिरी सांस जाते हुए

रोज जीते हैं हम,रोज मरते यहाँ
मौत से भी भला हम देखो डरते कहाँ
अपने आंचल में हमको सुलाती है माँ
ऐसी माँ के लिए छोड़कर चले हम जहाँ

चैन हमको मिले ये करना दुआ साथियों
प्यार से अपनी माँ के गोद में समाते हुए
याद रखना…………
कह रही………….

जान हथेली पर लिए हम तो चले आसमां
हर घड़ी याद आते हो तुम हमें मेहरबां
मिट गए वक्त की रेत पर अब सारे निशां
रुह बनके सदा हम करेंगे खुद को बयां

मर के भी जो हिफाजत की रहेगी सदा साथियों
आंख में ना हो आंसू फर्ज निभाते हुए
याद रखना……………….
कह रही……………..

मौत से भी मोहब्बत निभायेंगे हम जालिमां
हमारे लहू से लहरायेगी फिर नयी फसल जवां
यूहीं मुस्कुराता रहे इस सरजमीं का बागबां
अब तो चलते हैं लेकर हम मौत का कारवां

इन हंसी वादियों को नजर ना लगे साथियों
चाहे आ जाए कोई भी कहर गिराते हुए
याद रखना………….
कह रही……………..

पूर्णतः मौलिक स्वरचित सृजन
आदित्य कुमार भारती
टेंगनमाड़ा, बिलासपुर, छ.ग.

3 Likes · 163 Views
You may also like:
अब सुप्त पड़ी मन की मुरली, यह जीवन मध्य फँसा...
संजीव शुक्ल 'सचिन'
दर्द को गर
Dr fauzia Naseem shad
✍️सब्र कर✍️
Vaishnavi Gupta
बॉलीवुड का अंधा गोरी प्रेम और भारतीय समाज पर इसके...
हरिनारायण तनहा
जब उमीदों की स्याही कलम के साथ चलती है।
Manisha Manjari
चिड़ियाँ
Anamika Singh
गुरु पूर्णिमा
Vikas Sharma'Shivaaya'
गौरैया
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
पिता
Meenakshi Nagar
काश अपना भी कोई चाहने वाला होता।
Taj Mohammad
सागर
Vikas Sharma'Shivaaya'
अल्फाज़ ए ताज भाग-9
Taj Mohammad
देखो हाथी राजा आए
VINOD KUMAR CHAUHAN
क्या तुम आजादी के नाम से, कुछ भी कर सकते...
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
“ फेसबुक क प्रणम्य देवता ”
DrLakshman Jha Parimal
कुछ दुआ का
Dr fauzia Naseem shad
बुआ आई
राजेश 'ललित'
✍️हाथ के सारे तिरंगे ऊँचे लहराये..!✍️
'अशांत' शेखर
✍️क्या ये विकास है ?✍️
'अशांत' शेखर
मुकम्मल ना होते है।
Taj Mohammad
✍️मेरे अंतर्मन के गदर में..✍️
'अशांत' शेखर
दौलत देती सोहरत
AMRESH KUMAR VERMA
विश्व पृथ्वी दिवस
Dr Archana Gupta
सत् हंसवाहनी वर दे,
Pt. Brajesh Kumar Nayak
ऐसा ही होता रिश्तों में पिता हमारा...!!
Taj Mohammad
महादेवी वर्मा जी की वेदना
Ram Krishan Rastogi
शम्मा ए इश्क़।
Taj Mohammad
सच को सच
Dr fauzia Naseem shad
बेजुवान मित्र
AMRESH KUMAR VERMA
غزل
Dr.SAGHEER AHMAD SIDDIQUI
Loading...