Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
May 3, 2022 · 2 min read

“मोह मोह”…….”ॐॐ”….

एक सेठ जी बड़े ही दयालु पूजा पाठ वाले इंसान थे. दूसरों की सेवा करना उनका जैसे अपना काम था सेठ जी का व्यापार भी बहुत बढ़िया था एक दिन जैसे ही सुबह सेठ जी पूजा के लिए तैयार हो रहे थे और पूजा के आसन पर बैठ कर पूजा कर रहे थे पीछे से किसी ने हाथ लगाया जैसे ही सेठ जी ने पीछे मूड कर देखा भगवान उनके पीछे खड़े थे .. सेठ जी की आँखो में आँसू भर आए और सेठ जी भगवान के चरणो से लिपट गए भगवान ने सेठ जी को अपने सीने से लगाया और कहा मैं तेरी भक्ति व दूसरी की सेवा से बहुत ख़ुश हूँ आज मैं तेरे को वरदान देना चाहता हूँ सेठ जी ने भगवान से सिर्फ़ ये कहा हे ईश्वर मैं तो सिर्फ़ ये चाहता हूँ मेरे सभी बेटे पूजा पाठ करते रहे और दूसरों की सेवा भी करते रहे दूसरों के दुःखों को अपना दुःख समझे …ठीक हैं …पर सेठ तुम अभी भी मोह में हो … आज से तुम को एक मंत्र दे रहा हूँ सिर्फ़ अब तुम्हें “मोह मोह “ का उच्चारण करना ऐसा कह कर भगवान चले गए … सेठ जी भगवान की बात मान गए और मोह मोह का उच्चारण कर ने लगे … समय गुजरता रहा … सेठ जी जैसे ही “मोह मोह”का उच्चारण करते”ॐॐ” का उच्चारण होने लगा …लगता सेठ जी बहुत खुश भगवान बड़े ही दयालूँ हैं एक ऐसा मंत्र दे दिया जो कभी किसी ने सोचा भी न था … भगवान सेठ की भक्ति देख एक बार फिर सेठ को भगवान ने दर्शन दिए और सेठ जी भगवान से कहने लगे ही भगवान आपने ने “मोह मोह” के उच्चारण से भी “ॐ ॐ” का उच्चारण करवा दिया आप बड़े ही कृपा करने वाले हो मेरा तो जीवन धन्य हो गया और अब कुछ नहीं बचा मैं अब आपके साथ ही चलूँगा… ठीक हैं लेकिन अभी तुमको बहुत काम करने हैं अभी बहुत सेवा करनी हैं दुखियों की … जाते जाते भगवान सेठ को एक इस वरदान दे गए जिसपर भी हाथ रख थे वो धन्य हो जाए और हाँ जाते जाते एक काम और बोल गए तेरे को एक ऐसी भगवद्गीता का पता लगाना हैं जो दर्पण छवि में लिखी हो …सेठ जी सोच में पड़ गए इसमें भी भगवान को कोई न कोई राज छिपा हैं कुछ न कुछ बताना चाहते हैं सेठ जी को गहन अध्ययन करने पर पता चला उन्होंने दर्पण छवि में भगवद्गीता इस लिए लिखी अगर सीधी न पढ़ पाए उल्टी पढ़ लो क्यूँकि उनका सीधा संदेश था पूरी दुनिया के लिए “मरा मरा” बोलने से “राम राम”निकला और रामायण लिख थी … सीधी नहीं उल्टी ही पढ़ लो एक बार … पढ़ तो लो … “मोह मोह”से “ॐ ओम्”और “मरा मरा”से “राम राम”….सेठ जी इतना कह कर पता नहीं कब शून्य में विलीन हो गए.

1 Like · 132 Views
You may also like:
आज बहुत दिनों बाद
Krishan Singh
नामालूम था नादान को।
Taj Mohammad
# दिल्ली होगा कब्जे में .....
Chinta netam " मन "
पिता का दर्द
Nitu Sah
लाचार बूढ़ा बाप
jaswant Lakhara
प्यार करते हो मुझे तुम तो यही उपहार देना
Shivkumar Bilagrami
दिया
Anamika Singh
कोरोना - इफेक्ट
Kanchan Khanna
न थी ।
Rj Anand Prajapati
गम आ मिले।
Taj Mohammad
काश ! तेरी निगाह मेरे से मिल जाती
Ram Krishan Rastogi
फासले
Seema Tuhaina
जीवन उर्जा ईश्वर का वरदान है।
Anamika Singh
मैं मजदूर हूँ!
Anamika Singh
कलम के सिपाही
Pt. Brajesh Kumar Nayak
** थोड़े मे **
Swami Ganganiya
कुछ हंसी पल खुशी के।
Taj Mohammad
नई सुबह रोज
Prabhudayal Raniwal
*** घर के आंगन की फुलवारी ***
Swami Ganganiya
दुआ पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
शहर-शहर घूमता हूं।
Taj Mohammad
जयति जयति जय , जय जगदम्बे
Shivkumar Bilagrami
सच और झूठ
श्री रमण 'श्रीपद्'
" दिव्य आलोक "
DrLakshman Jha Parimal
भीगे अरमाँ भीगी पलकें
VINOD KUMAR CHAUHAN
छत्रपति शिवजी महाराज के 392 वें जन्मदिवस के सुअवसर पर...
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
✍️ मसला क्यूँ है ?✍️
"अशांत" शेखर
दोस्ती का हर दिन ही
Dr fauzia Naseem shad
परमात्मतत्वस्य प्राप्तया: सर्वे अधिकारी
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
💐भगवत्कृपा सर्वेषु सम्यक् रूपेण वर्षति💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
Loading...