Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

मोहिनी सूरत……….

मोहिनी सूरत……….

देख के उसकी मोहिनी सूरत, फूल भी खिलना भूल गये !
ख्वाबो में उसके ऐसा उलझे, खुद से मिलना भूल गये !!

कब आई और वो आकर चली गई
उसे देख आँखे से ज्योति चली गई
न जाने कैसा जादू उसने फेरा
कि हम जगह से हिलना भूल गये !!

देख के उसकी मोहिनी सूरत, फूल भी खिलना भूल गये !
ख्वाबो में उसके ऐसा उलझे, खुद से मिलना भूल गये ।।

वो सांवरी – सलोनी सी थी
चंचल चितवन स्वामिनी थी
पास से गुजरी जब दामिनी सी
हम साँसे गिनना भूल गये !!

देख के उसकी मोहिनी सूरत, फूल भी खिलना भूल गये !
ख्वाबो में उसके ऐसा उलझे, खुद से मिलना भूल गये !!

खुदा की नायाब जादूगरी,
थी उसमे कूट – कूट भरी
ऩजरे उठाकर जिसने भी देखा
फिर वो रब से मिलना भूल गये !!

देख के उसकी मोहिनी सूरत, फूल भी खिलना भूल गये !
ख्वाबो में उसके ऐसा उलझे, खुद से मिलना भूल गये !!

!
!
!
डी. के. निवातियाँ _________@

2 Comments · 338 Views
You may also like:
कर्म में कौशल लाना होगा
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
कोई तो है कहीं पे।
Taj Mohammad
ठोकर तमाम खा के....
अश्क चिरैयाकोटी
पहले ग़ज़ल हमारी सुन
Shivkumar Bilagrami
श्रेय एवं प्रेय मार्ग
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
मन की मुराद
मनोज कर्ण
मुस्कुराना सीख लो
Dr.sima
पहले जैसे रिश्ते अब क्यों नहीं रहे
Ram Krishan Rastogi
हैं पिता, जिनकी धरा पर, पुत्र वह, धनवान जग में।।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
सद्आत्मा शिवाला
Pt. Brajesh Kumar Nayak
छलकाओं न नैना
Dr. Alpa H. Amin
✍️थोड़ी मजाकियां✍️
"अशांत" शेखर
माँ बाप का बटवारा
Ram Krishan Rastogi
योगा
Utsav Kumar Aarya
मानव तन
Rakesh Pathak Kathara
✍️पैरो तले ज़मी✍️
"अशांत" शेखर
【 23】 प्रकृति छेड़ रहा इंसान
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
वक्त रहते मिलता हैं अपने हक्क का....
Dr. Alpa H. Amin
सफल होना चाहते हो
Krishan Singh
वेदना के अमर कवि श्री बहोरन सिंह वर्मा प्रवासी*
Ravi Prakash
क्या अटल था?
Saraswati Bajpai
उपहार की भेंट
Buddha Prakash
तुम जो मिल गई हो।
Taj Mohammad
✍️घर में सोने को जगह नहीं है..?✍️
"अशांत" शेखर
जीवन की सौगात "पापा"
Dr. Alpa H. Amin
जो बीत गई।
Taj Mohammad
कुण्डलिया
शेख़ जाफ़र खान
खुशियों भरे पल
surenderpal vaidya
प्रयास
Dr.sima
सत्य कभी नही मिटता
Anamika Singh
Loading...