Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
Sep 18, 2017 · 1 min read

मोहब्बत

लड़खड़ाता है होंठ मेरा
जब भी दिल की बात
जुबान पर लाने की
नाकाम कोशिश करता हूँ,
बड़े अदब से पास
उनके जाता तो हूँ मगर
पसीने में तरबतर होकर
वापस अपनी जगह झुकाकर
सिर को लौट आ जाता हूँ ;
ये नाकामयाब कोशिशें सिर्फ
मैं ही नहीं सैकड़ों आशिक
अपने माशूकों को पाने के लिए
जहाँ में हर जगह करते हैं,
हालांकि कुछेक कामयाब तो
हो जाते है मगर ज्यादातर
मेरी तरह मोहब्बत माशूकों का
हासिल नहीं कर पाते है ;
इसलिए दुआ करता हूँ
ऐ खुदा किसीको आशिक
न बना ऐसा कि वह मोहब्बत
किसीसे जाहिर ही न कर पाए ,
मेरी तरह नाकाम न हो कोई
मोहब्बत हरेक को नसीब हो जाए!

186 Views
You may also like:
दया करो भगवान
Buddha Prakash
हैं पिता, जिनकी धरा पर, पुत्र वह, धनवान जग में।।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
छोड़ दी हमने वह आदते
Gouri tiwari
तू नज़र में
Dr fauzia Naseem shad
आई राखी
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
रिश्तों की डोर
मनोज कर्ण
रबीन्द्रनाथ टैगोर पर तीन मुक्तक
Anamika Singh
मेरे बुद्ध महान !
मनोज कर्ण
Life through the window during lockdown
ASHISH KUMAR SINGH
सुन्दर घर
Buddha Prakash
पिता
Dr.Priya Soni Khare
प्यार में तुम्हें ईश्वर बना लूँ, वह मैं नहीं हूँ
Anamika Singh
सफलता कदम चूमेगी
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
पिता - नीम की छाँव सा - डी के निवातिया
डी. के. निवातिया
पिता की नसीहत
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
कैसे गाऊँ गीत मैं, खोया मेरा प्यार
Dr Archana Gupta
मिसाले हुस्न का
Dr fauzia Naseem shad
.....उनके लिए मैं कितना लिखूं?
ऋचा त्रिपाठी
ऐ ज़िन्दगी तुझे
Dr fauzia Naseem shad
राखी-बंँधवाई
श्री रमण 'श्रीपद्'
जैसे सांसों में ज़िंदगी ही नहीं
Dr fauzia Naseem shad
इंतज़ार थमा
Dr fauzia Naseem shad
"फिर से चिपको"
पंकज कुमार कर्ण
पहचान...
मनोज कर्ण
" मां" बच्चों की भाग्य विधाता
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
दर्द की हम दवा
Dr fauzia Naseem shad
न जाने क्यों
Dr fauzia Naseem shad
काश बचपन लौट आता
Anamika Singh
शरद ऋतु ( प्रकृति चित्रण)
Vishnu Prasad 'panchotiya'
🥗फीका 💦 त्यौहार💥 (नाट्य रूपांतरण)
पाण्डेय चिदानन्द
Loading...