Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
Jul 19, 2016 · 1 min read

मोहब्बत जिनके मन में है……

औरो से युहीं कोई खफा नहीं होता,
रूठते है वही मोहब्बत जिनके मन में है|

कोशिशे कितनी भी हो कम ही रहेगी ज़माने की,
मिल कर ही रहेंगे वो ,इबादत जिनके मन में है|

भले ही लंबी हो या कठिन हो ये राहें,
चल ही जाते है राही बगावत जिनके मन में है।

नही आसान होता है किसी के सामने झुकना,
वो माफ़ी माँग लेते है शराफ़त जिनके मन मे है|

महकता है हर पत्थर मेरी गली का,
आहट से उनकी,नजारत जिनके मन में है|

दिखावे से भरी है उनके घर की हर दीवार,
जता जाते है वो सियासत जिनके मन में है।

शुरू किया है सफ़र, तो खत्म करके ही दम लेंगे,
रास्ता काटने की ज़िद सलामत जिनके मन में है|

मोहब्बत की हवाएँ कोशिशे लाख ही करलें,
मिल ही नहीं पाते है वो, मसाफत जिनके मन में है।

कांच में करके कैद जुगनू, उजाला तो पा लेंगे,
कर ना पाएंगे राह रोशन अजीयत जिनके मन में है।

माफ़ करना गर ये गुस्ताखी लगे
तेरी मोहब्बतों से सजीं एक इमारत मेरे मन में है

तमन्ना तो है के गले लगा लूँ महफ़िल में पर,
उसकी गैर मिज़ाजी का इल्म सलामत मेरे मन में है|

लोग बहुत थे साथ मेरे आगाज़े सफ़र में..
मंजिल पर हूँ अकेला ये नदामत मेरे मन में है|

सजाये मौत ही मुक़र्रर होगी बेबफाई के एवज़,
पर कैसे बच निकलना है ये ज़हानत मेरे मन में है।

सौरभ पुरोहित …..☺

184 Views
You may also like:
पिता
Kanchan Khanna
मांँ की लालटेन
श्री रमण 'श्रीपद्'
अनामिका के विचार
Anamika Singh
पिता
लक्ष्मी सिंह
मिसाले हुस्न का
Dr fauzia Naseem shad
''प्रकृति का गुस्सा कोरोना''
Dr Meenu Poonia
ख़्वाहिश पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
जाने कैसा दिन लेकर यह आया है परिवर्तन
आकाश महेशपुरी
पिता
Meenakshi Nagar
✍️आशिकों के मेले है ✍️
Vaishnavi Gupta
कहीं पे तो होगा नियंत्रण !
Ajit Kumar "Karn"
पिता के रिश्ते में फर्क होता है।
Taj Mohammad
नास्तिक सदा ही रहना...
मनोज कर्ण
पितृ स्वरूपा,हे विधाता..!
मनोज कर्ण
वेदों की जननी... नमन तुझे,
मनोज कर्ण
छीन लेता है साथ अपनो का
Dr fauzia Naseem shad
हवा-बतास
आकाश महेशपुरी
मिठाई मेहमानों को मुबारक।
Buddha Prakash
"वो पिता मेरे, मै बेटी उनकी"
रीतू सिंह
संत की महिमा
Buddha Prakash
विन मानवीय मूल्यों के जीवन का क्या अर्थ है
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
'बाबूजी' एक पिता
पंकज कुमार कर्ण
नए-नए हैं गाँधी / (श्रद्धांजलि नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
फिर भी वो मासूम है
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
उतरते जेठ की तपन / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
जब गुलशन ही नहीं है तो गुलाब किस काम का...
लवकुश यादव "अज़ल"
अपनी नज़र में खुद अच्छा
Dr fauzia Naseem shad
कौन था वो ?...
मनोज कर्ण
दो जून की रोटी
Ram Krishan Rastogi
वो हैं , छिपे हुए...
मनोज कर्ण
Loading...