Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 May 2022 · 2 min read

मोहब्बत की दर्द- ए- दास्ताँ

ख्वाबों के टूटते ही,
आज मेरे आँसूं इस कदर बह रहे हैं…….
बिना कुछ बोले मेरे, मोहब्बत की दर्द- ए- दास्ताँ कह रहे हैं।
ये दर्द जो दिल में छिपा है…..
अब ज़िंदगी को न किसी से गिला है।
जीने का कोई आसरा न रहा……
ख़ुशियों से कोई वास्ता न रहा।
आँसूं बह रहे हैं दरियाँ बनके…..
वो दिल में रह रहे हैं, प्यार का ज़रिया बनके।
इन ख्वाहिशों से कितनी दूर चली गयी ज़िंदगी…..
न जाने क्यों, उसकी बातों में झलकती थी एक अलग – सी सादगी।
आज मेरे अरमाँ अश्क बनके बह रहे हैं…..
बिना कुछ बोले मेरे, मोहब्बत की दर्द- ए- दास्ताँ कह रहे हैं।
टूटते हुए दिल की सिसकियाँ कह रही हैं बार- बार…..
भले ही शामिल न हो सके वो मेरी जिंदगी में,
मगर एक दिन होगा ज़रूर दीदार।
कुछ यूँ, वो मेरी जिंदगी में आये…..
कि इन आँखों को एक अजीब- सी चाहत होने लगी,
उन्हें सामने पाकर इस दिल को एक राहत होने लगी,
मोहब्बत की आदत कुछ इस कदर होने लगी,
यकीनन……
उस रब से भी पहले पूरी शिद्दत से सिर्फ उसी की इबादत होने लगी।
अचानक ही यूँ बिखर गये मेरे अरमाँ,
और आज मेरे आँसूं इस कदर बह रहे हैं…..
बिना कुछ बोले मेरे, मोहब्बत की दर्द- ए- दास्ताँ कह रहे हैं।
जो होना था हो गया…..
जो खोना था खो गया।
टूटता तारा देख मन्नत यही माँगती हूँ…..
इस दिल की उस दिल से मुलाकात माँगती हूँ।
बहुत खूबसूरत हो ज़िंदगी तुम्हारी…..
दुआ यही दिन- रात माँगती हूँ।
एतबार है अपनी मोहब्बत पर…..
एक दिन बहुत पछताओगे।
फ़िर लौट, मेरे पास ही आओगे,
मगर अफ़सोस……
ज़िंदगी में सुबह नहीं, शाम लिखी थी।
अचानक ही…..
ज़िंदगी की कश्ती डूब गयी,
आज ये साँसें हमेशा के लिए छूट गयी।
हाँ, अब मैं न रही…..
ये मोहब्बत जिंदा रहेगी,
दास्ताँ इस सच्ची मोहब्बत की ये दुनिया याद रखेगी।
वक़्त के रहते समझ न सके…..
जब मेरी ज़िंदगी की शाम ढल गयी,
तो लाश बनके आँसूं उसके बह रहे हैं……
बिना कुछ बोले मेरे, मोहब्बत की दर्द- ए- दास्ताँ कह रहे हैं।
_ ज्योति खारी

16 Likes · 19 Comments · 484 Views
You may also like:
सृजन की तैयारी
Saraswati Bajpai
जब गुरु छोड़ के जाते हैं
Aditya Raj
राजनेता
Aditya Prakash
जोकर vs कठपुतली
bhandari lokesh
गुनाहों का सज्जा क्या दु
Anurag pandey
सरकार और नेता कैसे होने चाहिए
Ram Krishan Rastogi
# पर_सनम_तुझे_क्या
D.k Math { ਧਨੇਸ਼ }
खमोशी है जिसका गहना
शेख़ जाफ़र खान
मुकरियां __नींद
Manu Vashistha
खोल नैन द्वार माँ।
लक्ष्मी सिंह
सीख
Pakhi Jain
अजीब मनोस्थिति "
Dr Meenu Poonia
‘कन्याभ्रूण’ आखिर ये हत्याएँ क्यों ?
पंकज कुमार शर्मा 'प्रखर'
*पुष्प जैसे खिल रहा (गीतिका)*
Ravi Prakash
✍️अमृताचे अरण्य....!✍️
'अशांत' शेखर
खुदा मिल गया
shabina. Naaz
बरसात
प्रकाश राम
भूख की अज़ीयत
Dr fauzia Naseem shad
रुतबा
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
जिंदगी की डगर में मुझको
gurudeenverma198
दो पल का जिंदगानी...
AMRESH KUMAR VERMA
लोकतंत्र की पहचान
Buddha Prakash
#किताबों वाली टेबल
Seema 'Tu hai na'
गुरु मंत्र
Shekhar Chandra Mitra
मै हिम्मत नही हारी
Anamika Singh
'नज़रिया'
Godambari Negi
साहस
Shyam Sundar Subramanian
पिता
Raju Gajbhiye
चुनाव आते ही....?
Dushyant Kumar
जिन्दगी में होता करार है।
Taj Mohammad
Loading...