Sep 21, 2016 · 1 min read

मोहबत है तुम से/मंदीप

मोहबत है कितनी तुम से/मंदीप

आँखो से आँखे एक बार मिलाने दीजिये,
महखाने में अपने हाथो से दो जाम पिला तो दिजिये।

यु ना देखो गुर कर हमे,
एक बार मुस्कुरा दीजिये।

महोबत है कितनी तुम से,
एक बार बया तो करने दीजिये।

कुर्बान मेरा सब कुछ तुम पर,
एक बार हमारा साथ तो दीजिये।

मुसाफिर बन कर बैठा हूँ तेरी राह में,
एक बार दीदार तो करने दीजिये।

कह दो झूठा ही “मंदीप”मोहबात है तुम से,
उस को इसी भृम में जीने दीजिय।

मंदीपसाई

142 Views
You may also like:
हमने प्यार को छोड़ दिया है
VINOD KUMAR CHAUHAN
नुमाइश बना दी तुने I
Dr.sima
माँ
आकाश महेशपुरी
💐ये मेरी आशिकी💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
ग़ज़ल- कहां खो गये- राना लिधौरी
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
*मौसम प्यारा लगे (वर्षा गीत )*
Ravi Prakash
कुछ दिन की है बात
Pt. Brajesh Kumar Nayak
मैं चिर पीड़ा का गायक हूं
विमल शर्मा'विमल'
पिता
कुमार अविनाश केसर
नारियल
Buddha Prakash
कुछ झूठ की दुकान लगाए बैठे है
Ram Krishan Rastogi
पर्यावरण और मानव
मनमोहन लाल गुप्ता अंजुम
जिंदगी क्या है?
Ram Krishan Rastogi
💐💐प्रेम की राह पर-20💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
मुक्तक- उनकी बदौलत ही...
आकाश महेशपुरी
हमको आजमानें की।
Taj Mohammad
जेब में सरकार लिए फिरते हैं
VINOD KUMAR CHAUHAN
दोहा छंद- पिता
रेखा कापसे
न्याय का पथ
AMRESH KUMAR VERMA
कहानी को नया मोड़
अरशद रसूल /Arshad Rasool
मत भूलो देशवासियों.!
Prabhudayal Raniwal
पुत्रवधु
Vikas Sharma'Shivaaya'
पापा की परी...
Sapna K S
उड़ी पतंग
Buddha Prakash
अधजल गगरी छलकत जाए
Vishnu Prasad 'panchotiya'
पिता हैं धरती का भगवान।
Vindhya Prakash Mishra
बेटी का संदेश
Anamika Singh
सद्आत्मा शिवाला
Pt. Brajesh Kumar Nayak
अत्याचार
AMRESH KUMAR VERMA
मैं आज की बेटी हूं।
Taj Mohammad
Loading...