Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Jul 2016 · 1 min read

“मोहन से मिलने को आयी राधा मोहिनी”

“मनहरण घनाछरी छंद”

काजल लगा के चक्षु,शशि रुप धरे हुये,
मोहन से मिलने को,आयी राधा मोहिनी।
लोचन से लोचन का,मिलन होते ही राधा,
नाची जैसे नाचे मेघ देख,कोई मोरनी।
अधरों पे रख श्याम,मुरली बजाई जब,
कुंज कुंज नाच उठी,मुग्ध होके रागिनी।
चेहरे की आभा देख,चकित है भव सारा,
दंभ करने वाली भी,दंग हुयी दामिनी।

कुछ शब्द अ्र्थ…
चक्षु=आँख, शशि=चन्द्रमा, लोचन=आँख,नयन
मेघ=बादल, अधरों=ओंठ कुंज=गली मुग्ध=भावविभोर,मगन आभा=चमक, भव=संसार
दंभ=घमंड,दंग=आश्च्र्य

330 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Follow our official WhatsApp Channel to get all the exciting updates about our writing competitions, latest published books, author interviews and much more, directly on your phone.
You may also like:
रहने वाली वो परी थी ख़्वाबों के शहर में
रहने वाली वो परी थी ख़्वाबों के शहर में
Faza Saaz
"मेरे पिता"
vikkychandel90 विक्की चंदेल (साहिब)
■ प्रेरक / हताश विद्यार्थियोँ के लिए...
■ प्रेरक / हताश विद्यार्थियोँ के लिए...
*Author प्रणय प्रभात*
धीरे-धीरे समय सफर कर गया
धीरे-धीरे समय सफर कर गया
Pratibha Kumari
*बदला सिर्फ कलैन्डर है (हिंदी गजल/गीतिका)*
*बदला सिर्फ कलैन्डर है (हिंदी गजल/गीतिका)*
Ravi Prakash
✍️ना तू..! ना मैं...!✍️
✍️ना तू..! ना मैं...!✍️
'अशांत' शेखर
भारत की दुर्दशा
भारत की दुर्दशा
Shekhar Chandra Mitra
कोई हिन्दू हो या मूसलमां,
कोई हिन्दू हो या मूसलमां,
Satish Srijan
सबतै बढिया खेलणा
सबतै बढिया खेलणा
विनोद सिल्ला
ख़यालों के परिंदे
ख़यालों के परिंदे
Anis Shah
जीभ/जिह्वा
जीभ/जिह्वा
लक्ष्मी सिंह
जिसे सुनके सभी झूमें लबों से गुनगुनाएँ भी
जिसे सुनके सभी झूमें लबों से गुनगुनाएँ भी
आर.एस. 'प्रीतम'
विजया दशमी की हार्दिक बधाई शुभकामनाएं 🎉🙏
विजया दशमी की हार्दिक बधाई शुभकामनाएं 🎉🙏
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
कोशिश करने वालों की हार नहीं होती हैं
कोशिश करने वालों की हार नहीं होती हैं
DR ARUN KUMAR SHASTRI
तेरा आईना हो जाऊं
तेरा आईना हो जाऊं
कवि दीपक बवेजा
मेरा आंगन
मेरा आंगन
Vishnu Prasad 'panchotiya'
भाग्य पर अपने
भाग्य पर अपने
Dr fauzia Naseem shad
कर्म परायण लोग कर्म भूल गए हैं
कर्म परायण लोग कर्म भूल गए हैं
प्रेमदास वसु सुरेखा
कलानिधि
कलानिधि
Raju Gajbhiye
तुम मेरी जिन्दगी बन गए हो।
तुम मेरी जिन्दगी बन गए हो।
Taj Mohammad
*प्रेम भेजा  फ्राई है*
*प्रेम भेजा फ्राई है*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
दोस्ती गहरी रही
दोस्ती गहरी रही
Rashmi Sanjay
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Mahendra Narayan
✍️बारिश का मज़ा ✍️
✍️बारिश का मज़ा ✍️
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
विचार , हिंदी शायरी
विचार , हिंदी शायरी
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
मेरे वतन मेरे वतन
मेरे वतन मेरे वतन
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
🌺🌺प्रकृत्या: आदि:-मध्य:-अन्त: ईश्वरैव🌺🌺
🌺🌺प्रकृत्या: आदि:-मध्य:-अन्त: ईश्वरैव🌺🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
शेष
शेष
Dr.Priya Soni Khare
“ अपने प्रशंसकों और अनुयायियों को सम्मान दें
“ अपने प्रशंसकों और अनुयायियों को सम्मान दें"
DrLakshman Jha Parimal
नेताजी (कविता)
नेताजी (कविता)
Artist Sudhir Singh (सुधीरा)
Loading...