Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Settings
Jul 12, 2016 · 1 min read

“मोहन से मिलने को आयी राधा मोहिनी”

“मनहरण घनाछरी छंद”

काजल लगा के चक्षु,शशि रुप धरे हुये,
मोहन से मिलने को,आयी राधा मोहिनी।
लोचन से लोचन का,मिलन होते ही राधा,
नाची जैसे नाचे मेघ देख,कोई मोरनी।
अधरों पे रख श्याम,मुरली बजाई जब,
कुंज कुंज नाच उठी,मुग्ध होके रागिनी।
चेहरे की आभा देख,चकित है भव सारा,
दंभ करने वाली भी,दंग हुयी दामिनी।

कुछ शब्द अ्र्थ…
चक्षु=आँख, शशि=चन्द्रमा, लोचन=आँख,नयन
मेघ=बादल, अधरों=ओंठ कुंज=गली मुग्ध=भावविभोर,मगन आभा=चमक, भव=संसार
दंभ=घमंड,दंग=आश्च्र्य

223 Views
You may also like:
समय ।
Kanchan sarda Malu
टूटा हुआ दिल
Anamika Singh
पिता की नसीहत
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
"कल्पनाओं का बादल"
Ajit Kumar "Karn"
आदमी कितना नादान है
Ram Krishan Rastogi
तुमसे कोई शिकायत नही
Ram Krishan Rastogi
🙏माॅं सिद्धिदात्री🙏
पंकज कुमार कर्ण
पितृ महिमा
मनोज कर्ण
गोरे मुखड़े पर काला चश्मा
श्री रमण 'श्रीपद्'
'दुष्टों का नाश करें' (ओज - रस)
Vishnu Prasad 'panchotiya'
"शौर्यम..दक्षम..युध्धेय, बलिदान परम धर्मा" अर्थात- बहादुरी वह है जो आपको...
Lohit Tamta
गुलामी के पदचिन्ह
मनोज कर्ण
इन्सानियत ज़िंदा है
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
मै पैसा हूं दोस्तो मेरे रूप बने है अनेक
Ram Krishan Rastogi
रोटी संग मरते देखा
शेख़ जाफ़र खान
रेलगाड़ी- ट्रेनगाड़ी
Buddha Prakash
इश्क कोई बुरी बात नहीं
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
पिता
Meenakshi Nagar
बुध्द गीत
Buddha Prakash
ग़ज़ल
सुरेखा कादियान 'सृजना'
गिरधर तुम आओ
शेख़ जाफ़र खान
गंगा दशहरा
श्री रमण 'श्रीपद्'
फीका त्यौहार
पाण्डेय चिदानन्द
माँ तुम अनोखी हो
Anamika Singh
कैसे मैं याद करूं
Anamika Singh
पापा क्यूँ कर दिया पराया??
Sweety Singhal
हम भूल तो नहीं सकते
Dr fauzia Naseem shad
बुद्ध भगवान की शिक्षाएं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
बेरोज़गारों का कब आएगा वसंत
Anamika Singh
हैं पिता, जिनकी धरा पर, पुत्र वह, धनवान जग में।।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
Loading...