Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
30 Sep 2016 · 1 min read

मोटूमल का भोजन

खाते रात दिवस रहे, मोटूमल भरपेट।
लड्डू पेड़ा और सभी, होता उनको भेंट।
होता उनको भेंट, भोग सबका है लगता।
जो भी मुख को भाय,सदा थाली में सजता।
कह महंत कविराय, कभी भी रहे न भूखे
हरदम भोजन ठूँस, सदा देखे हैं खाते।।

228 Views
You may also like:
चराग़ों को जलाने से
Shivkumar Bilagrami
बापू का सत्य के साथ प्रयोग
Pooja Singh
टविन टोवर
DR ARUN KUMAR SHASTRI
తెలుగు
विजय कुमार 'विजय'
🌹खिला प्रसून।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
जात-पात
Shekhar Chandra Mitra
दिल की ये आरजू है
श्री रमण 'श्रीपद्'
उस पार
shabina. Naaz
इश्क़ नहीं हम
Varun Singh Gautam
*करवाचौथ आई है (हिंदी गजल/गीतिका)*
Ravi Prakash
धरती अंवर एक हो गए, प्रेम पगे सावन में
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
छंद में इनका ना हो, अभाव
अरविन्द व्यास
छंदानुगामिनी( गीतिका संग्रह)
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
Writing Challenge- साहस (Courage)
Sahityapedia
✍️जुबाँ और कलम
'अशांत' शेखर
पुकार सुन लो
वीर कुमार जैन 'अकेला'
न और ना प्रयोग और अंतर
Subhash Singhai
मिलना है तुमसे
Rashmi Sanjay
पराई
Seema 'Tu hai na'
सृजन की तैयारी
Saraswati Bajpai
आँखों में आँसू क्यों
VINOD KUMAR CHAUHAN
कसूर किसका
Swami Ganganiya
तू हकीकत से रू बरू होगा।
Taj Mohammad
संविधान विशेष है
Buddha Prakash
बाबा साहेब जन्मोत्सव
Mahender Singh Hans
क्या मेरी कलाई सूनी रहेगी ?
Kumar Anu Ojha
जीवन
पीयूष धामी
मेरे पिता
Ram Krishan Rastogi
बदलाव
दशरथ रांकावत 'शक्ति'
वक़्त पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
Loading...