Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

मॉ की कोख मैं मुझे न मारो

पापा मेरे प्यारे पापा,
मुझे अपना लो पापा जी ।
मां की कोख में मुझे न मारो,
मुझे बचा लो पापा जी ।।
मुझको तुम दुनिया दिखला दो,
मेरे प्यारे पापा जी…

मां की गोद का बनू खिलौना,
उंगली पकड़ो पापाजी ।
भाई की जूठन खा कर के,
अपनी भूख मिटा लूंगी ।
पहन के उतरन भैया की मैं,
अपना काम चला लूंगी ।।
पापा मेरे प्यारे पापा…

चौका चूल्हा रोज करूंगी,
फिर भी अब्बल आऊंगी ।
रोशन आपका नाम करुंगी,
मुझे पढ़ा दो पापा जी ।।
इज्जत कभी न जाने दूंगी,
वचन हरा लो पापा जी ।।
पापा मेरे प्यारे पापा…

ऐश्वर्या सा रूप धरूंगी,
बनू सानिया मिर्जा सी ।
जब काम ना आए कोई सपूत,
तब ओलंपिक मैं जाऊंगी ।
साक्षी सिंधु बनकर पापा,
देश का मान बढ़ाऊंगी ।।
पापा मेरे प्यारे पापा…

सीता सम आदर्श निभाऊं ।
करूं तपस्या मीरा सी।
अनुसुईया सा सोम्य धरूंगी,
बन राधा श्याम नचाऊंगी ।।
शबरी बनकर प्रेम परोसूं ,
भोजन करना पापाजी ।।
पापा मेरे प्यारे पापा…

बनू किरण में उम्मीदों की,
घर रोशन कर जाऊंगी ।
इंद्रा सी प्रखरमुख होकर,
दुनिया पर छा जाऊंगी ।
सुषमा सा स्वराज कर दूंगी,
मेरे प्यारे पापा जी ।
पापा मेरे प्यारे पापा…

सरस्वती की वीणा बनकर,
स्वर सरगम में गाऊंगी ।
बनु लक्ष्मी दो-दो कुल की,
दरिद्रता दूर भगाऊंगी ।
झांसी की रानी बन कर के,
दुश्मन को सबक सिखाऊंगी ।
पापा मेरे प्यारे पापा…

प्रलय काल में प्यारे पापा,
मैं शक्ति बन जाऊंगी ।
दुर्गा काली का रूप धरू,
महिषासुर मर्दिनी कहलाऊंगी ।।
जगत जननी बनकर के पापा,
मैं सृष्टि सौम्य रचाऊंगी ।
पापा मेरे प्यारे पापा…

सुनलो दुनिया के सारे पापा,
बेटी को अपनाना तुम ।
बेटा -बेटी में भेद न करना,
समरसता देखलाना तुम ।
बेटी से ही दुनिया चलती,
इस बात को भूल ना जाना तुम।
पापा मेरे प्यारे पापा…

3 Likes · 1 Comment · 2163 Views
You may also like:
प्रोफेसर ईश्वर शरण सिंहल का साहित्यिक योगदान (लेख)
Ravi Prakash
Love Heart
Buddha Prakash
ना वो हवा ना वो पानी है अब
VINOD KUMAR CHAUHAN
खींच तान
Saraswati Bajpai
जीत-हार में भेद ना,
Pt. Brajesh Kumar Nayak
"सुकून की तलाश"
Ajit Kumar "Karn"
“ कोरोना ”
DESH RAJ
मैं अश्क हूं।
Taj Mohammad
हास्य-व्यंग्य
Sadanand Kumar
पितृ वंदना
मनोज कर्ण
अशिक्षा
AMRESH KUMAR VERMA
विलुप्त होती हंसी
Dr Meenu Poonia
सदा बढता है,वह 'नायक', अमल बन ताज ठुकराता|
Pt. Brajesh Kumar Nayak
युद्ध सिर्फ प्रश्न खड़ा करता है [भाग१]
अनामिका सिंह
✍️✍️ठोकर✍️✍️
"अशांत" शेखर
कर तू कोशिश कई....
Dr. Alpa H. Amin
ग़ज़ल- इशारे देखो
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
$ग़ज़ल
आर.एस. 'प्रीतम'
भावना
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
दो जून की रोटी।
Taj Mohammad
दीया तले अंधेरा
Vikas Sharma'Shivaaya'
व्यक्तिवाद की अजीब बीमारी...
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
प्रेम की परिभाषा
Nitu Sah
इंतजार का....
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
हनुमान जी वंदना ।। अंजनी सुत प्रभु, आप तो विशिष्ट...
Kuldeep mishra (KD)
लड्डू का भोग
Buddha Prakash
अश्रुपात्र ... A glass of tears भाग- 2 और 3
Dr. Meenakshi Sharma
【6】** माँ **
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
श्रृंगार
Alok Saxena
वक्त रहते मिलता हैं अपने हक्क का....
Dr. Alpa H. Amin
Loading...