Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
#6 Trending Author
Apr 15, 2022 · 1 min read

मै हूं एक मिट्टी का घड़ा

मै हूं एक मिट्टी का घड़ा,
सड़क किनारे मै हूं पड़ा।
बुझाता हूं मै सबकी प्यास,
कुम्हार मुझे लिए है खड़ा।।

खुदाने से खोदकर मिट्टी लाता है,
तब कहीं कुम्हार मुझे बनाता है।
बड़ी मेहनत से सुखा तपा कर,
तब कही वह मुझे बाजार लाता है

बुझाता हूं प्यासे की प्यास मै ही,
कुम्हार के बच्चो का पेट पालता हूं।
कहता नहीं मै किसी से कुछ भी,
गरीब के घर को मै ही संभालता हूं।।

ले लिया स्थान मेरा वाटर कूलरो ने
या फ्रिज मे बोतलो में समा गया हूं।
फिर भी गरीब के घर की शोभा हूं मैं,
उनके दिलों में मै ही समा गया हूं।

छेद कर देते है कुछ लोग मेरे पेट में।
टोटी लगा देते है फिर उसी वे छेद में।
करता नहीं जरा भी उफ उस दर्द से,
क्योंकि ठंडा पानी जाता है सबके पेट में।।

आर के रस्तोगी गुरुग्राम

1 Like · 4 Comments · 257 Views
You may also like:
यादों का मंजर
Mahesh Tiwari 'Ayen'
कभी हम भी।
Taj Mohammad
कोमल हृदय - नारी
DR ARUN KUMAR SHASTRI
रूसवा है मुझसे जिंदगी
VINOD KUMAR CHAUHAN
कभी ज़मीन कभी आसमान.....
अश्क चिरैयाकोटी
हम ना सोते हैं।
Taj Mohammad
नाम लेकर भुला रहा है
Vindhya Prakash Mishra
ईश्वर की जयघोश
AMRESH KUMAR VERMA
कन्यादान क्यों और किसलिए [भाग४]
Anamika Singh
*स्वर्गीय श्री जय किशन चौरसिया : न थके न हारे*
Ravi Prakash
✍️आव्हान✍️
"अशांत" शेखर
#कविता//ऊँ नमः शिवाय!
आर.एस. 'प्रीतम'
तुम्हीं तो हो ,तुम्हीं हो
Dr.sima
✍️इश्तिराक✍️
"अशांत" शेखर
कविता पर दोहे
Ram Krishan Rastogi
एक नज़म [ बेकायदा ]
DR ARUN KUMAR SHASTRI
"बेटी के लिए उसके पिता "
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
माँ
Dr Archana Gupta
✍️जिंदगी की सुबह✍️
"अशांत" शेखर
रसीला आम
Buddha Prakash
पिता की अभिलाषा
मनोज कर्ण
नवजीवन
AMRESH KUMAR VERMA
राम भरोसे (हास्य व्यंग कविता )
ओनिका सेतिया 'अनु '
तब से भागा कोलेस्ट्रल
श्री रमण
**यादों की बारिशने रुला दिया **
Dr. Alpa H. Amin
मौत ने कुछ बिगाड़ा नहीं
अरशद रसूल /Arshad Rasool
✍️खुदगर्ज़ थे वो ख्वाब✍️
"अशांत" शेखर
दिले यार ना मिलते हैं।
Taj Mohammad
श्रीयुत अटलबिहारी जी
Pt. Brajesh Kumar Nayak
ज़िंदगी मयस्सर ना हुई खुश रहने की।
Taj Mohammad
Loading...