Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Aug 16, 2016 · 1 min read

मै रहूँ न रहूँ,,,

मै रहूँ न रहूँ
तुम मुस्कराते रहना
मै निहारूँगा तारा बनकर
तुम बस खिलते रहना।
मेरे लिए न होना कभी उदास
तुम झरने सी बहते रहना।

सुबह की धूप बनकर
आऊँगा रोज मिलने
तुम बस उगते सूरज को देखते रहना।
जब भी आये उदासी भरी शाम
मै आऊँगा जुगनू बनकर
बस तुम गीत मेरे गुनगुनाते रहना।

कभी सतायें बीते हमारे लम्हे
मै आऊँगा बारिश बनकर
तुम आँगन में खड़े रहना
,,, ,लक्ष्य,,

1 Comment · 190 Views
You may also like:
✍️✍️एहसास✍️✍️
"अशांत" शेखर
लकड़ी में लड़की / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
मुझसे बचकर वह अब जायेगा कहां
Ram Krishan Rastogi
ग़ज़ल-ये चेहरा तो नूरानी है
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
✍️सब खुदा हो गये✍️
"अशांत" शेखर
रोग ने कितना अकेला कर दिया
Dr Archana Gupta
युद्ध सिर्फ प्रश्न खड़ा करता है [भाग२]
Anamika Singh
💐नाशवान् इच्छा एव पापस्य कारणं अविनाशी न💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
किसी को गिराया नहीं मैनें।
Taj Mohammad
बाबूजी! आती याद
श्री रमण
करो नहीं व्यर्थ तुम,यह पानी
gurudeenverma198
*हिम्मत मत हारो ( गीत )*
Ravi Prakash
फ़ालतू बात यही है
gurudeenverma198
बुंदेली दोहा- गुदना
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
अपने इश्क को।
Taj Mohammad
खुदा तो हो नही सकता –ग़ज़ल
रकमिश सुल्तानपुरी
"शौर्यम..दक्षम..युध्धेय, बलिदान परम धर्मा" अर्थात- बहादुरी वह है जो आपको...
Lohit Tamta
🌺प्रेम की राह पर-54🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
✍️मिसाले✍️
"अशांत" शेखर
भ्राता - भ्राता
Utsav Kumar Aarya
✍️✍️जरी ही...!✍️✍️
"अशांत" शेखर
सच
अंजनीत निज्जर
इश्क की तिशनगी है।
Taj Mohammad
वफा की मोहब्बत।
Taj Mohammad
#रिश्ते फूलों जैसे
आर.एस. 'प्रीतम'
ग़म की ऐसी रवानी....
अश्क चिरैयाकोटी
श्री भूकन शरण आर्य
Ravi Prakash
इश्क ए बंदगी में।
Taj Mohammad
अब कोई कुरबत नहीं
Dr. Sunita Singh
अजनबी
Dr. Alpa H. Amin
Loading...