Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Sep 2016 · 1 min read

मै न्यू जाणु सु तू कितना प्यार करे सै/मंदीप

मै न्यू जाणु सु तू कितणा प्यार करे सै,
तेरा दिल भी तो मेरे पै ही मरे सै।

जबै भी आवे मेरी आँख्या में पाणी,
तेरी आँख्या मे भी पाणी बर जा सै।

बुलु सै भी कोनी बुलाया जाऊ मै,
तू इब आपणे दिल ने के समजावे सै।

यो कोइ मखोल कोनि था रे स्याणी,
तेरा दिल भी तो मेरे ही दिल ने चावे सै।

ईब तो तू मेरी बात मान ल रेे बैरन,
मंदीप ते प्यार करके भी तू गबरावे सै।

मंदीपसाई

142 Views
You may also like:
मान जा ओ मां मेरी
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
सहारा हो तो पक्का हो किसी को।
सत्य कुमार प्रेमी
💐"गीता= व्यवहारे परमार्थ च तत्वप्राप्ति: च"💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
नवगीत - पहचान लेते थे
Mahendra Narayan
.✍️वो थे इसीलिये हम है...✍️
'अशांत' शेखर
टीस
Shekhar Chandra Mitra
“आनंद ” की खोज में आदमी
DESH RAJ
तन्हाई के आलम में।
Taj Mohammad
आज असंवेदनाओं का संसार देखा।
Manisha Manjari
हरियाली और बंजर
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
हास्य - व्यंग्य
संजीव शुक्ल 'सचिन'
सृजन की तैयारी
Saraswati Bajpai
कोरोना काल
AADYA PRODUCTION
सौ बात की एक
Dr.sima
मेरे पिता
मनमोहन लाल गुप्ता 'अंजुम'
ईमानदारी
Utsav Kumar Aarya
मुक्तक
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
नहीं आता है
shabina. Naaz
यही हमारा है धर्म
gurudeenverma198
सुरत और सिरत
Anamika Singh
मेरी प्रथम शायरी (2011)-
लक्ष्मण 'बिजनौरी'
इस तरह
Dr fauzia Naseem shad
एक नज़म [ बेकायदा ]
DR ARUN KUMAR SHASTRI
नहीं हूँ देवता पर पाँव की ठोकर नहीं बनता
Anis Shah
*कुछ भी नहीं पाया ठहर (गीत)*
Ravi Prakash
प्रेम एक अनुभव
पंकज कुमार शर्मा 'प्रखर'
सावन में साजन को संदेश
Er.Navaneet R Shandily
पितृ-दिवस / (समसामायिक नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
Fast Food
Buddha Prakash
अति पिछड़ों का असली नेता कौन नरेंद्र मोदी या नीतीश...
Nilesh Kumar Soni
Loading...