Oct 22, 2016 · 1 min read

मै तुम्हे कैसे बताउ/मंदीप

मै तुम्हे कैसे बताऊ/मंदीप

है तुम से कितनी चाहत मै तुम्हे कैसे बताऊ।
करता दिल मेरा अपने आप से बात तुम्हारी मै तुम्हे कैसे बताऊ।

अब तो गिरने लगे मेरी आँखो से आँसू,
हर आँसुओ में तुम हो मै तुम्हे कैसे बताऊ।

करता प्यार तुम को खुद से बढ़ कर,
मुझे जताना नही आता मै तुम्हे कैसे बताऊ।

राते दोगुनी हो जाती बिना तुम्हारे,
आजकल दिन भी होते लम्बे मै तुम्हे कैसे बताऊ।

रहता हर पल तुम्हारा नशा आँखो में,
लाल हुई मेरी आँखे में तुम हो मै तुम्हे कैसे बताऊ।

मिलोगे तुम मुझे कभी न कभी एक दिन,
इसी चाहत में मै अपने दिल को कब तक समझाऊ।

कर दिया सब कुछ कुर्बान तुम्हारी हसरत में,
“साई”अब तुम ही बताओ मै और अपने आप को कितना गिराऊ।

मंदीपसाई

153 Views
You may also like:
नारियल
Buddha Prakash
खो गया है बचपन
Shriyansh Gupta
निद्रा
Vikas Sharma'Shivaaya'
हिन्दी साहित्य का फेसबुकिया काल
मनोज कर्ण
फिर से खो गया है।
Taj Mohammad
नीति के दोहे
Rakesh Pathak Kathara
अम्बेडकर जी के सपनों का भारत
Shankar J aanjna
मज़दूर की महत्ता
Dr. Alpa H.
मजदूर_दिवस_पर_विशेष
संजीव शुक्ल 'सचिन'
ख़ूब समझते हैं ghazal by Vinit Singh Shayar
Vinit Singh
मेरा गुरूर है पिता
VINOD KUMAR CHAUHAN
पानी
Vikas Sharma'Shivaaya'
दुर्योधन कब मिट पाया:भाग:36
AJAY AMITABH SUMAN
गुरु तेग बहादुर जी
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
खींच तान
Saraswati Bajpai
झरने और कवि का वार्तालाप
Ram Krishan Rastogi
उत्साह एक प्रेरक है
Buddha Prakash
* बेकस मौजू *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
पिता का कंधा याद आता है।
Taj Mohammad
जिंदगी क्या है?
Ram Krishan Rastogi
!!! राम कथा काव्य !!!
जगदीश लववंशी
गीत - याद तुम्हारी
Mahendra Narayan
बुद्ध या बुद्धू
Priya Maithil
भाग्य लिपि
ओनिका सेतिया 'अनु '
बुरा तो ना मानोगी।
Taj Mohammad
धार्मिक उन्माद
Rakesh Pathak Kathara
=*तुम अन्न-दाता हो*=
Prabhudayal Raniwal
मेरा ना कोई नसीब है।
Taj Mohammad
फरिश्तों सा कमाल है।
Taj Mohammad
कवनो गाड़ी तरे ई चले जिंदगी
आकाश महेशपुरी
Loading...