Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
Jul 8, 2016 · 1 min read

मै जुगनू हूँ रात का राजा !

लंगड़ लूला लोच नही हूँ !

किसी के सर का बोझ नही हूँ !!

चम चम चमके जुगनू है हम !

कीड़े मकोड़े काकरोच नही हूँ !!

गद्दरो का घोस नही हूँ !

इसलिए जादा ठोस नही हूँ !!

मै जुगनू हूँ रात का राजा !

घास में फैली ओस नहीं हूँ !

हम जुगनू है छोटे अच्छे !

दिल के सीधे मन के सच्चे !

आप सभी को राह् दिखाऊ !

खुशी हूँ मैं कोई शोक नहीं हूँ !

लंगड़ लूला लोच नही हूँ !!!

477 Views
You may also like:
बँटवारे का दर्द
मनोज कर्ण
आंखों पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
सोलह शृंगार
श्री रमण 'श्रीपद्'
हम और तुम जैसे…..
Rekha Drolia
छलकता है जिसका दर्द
Dr fauzia Naseem shad
इंतजार
Anamika Singh
आ ख़्वाब बन के आजा
Dr fauzia Naseem shad
संघर्ष
Sushil chauhan
बच्चों के पिता
Dr. Kishan Karigar
गुरुजी!
Vishnu Prasad 'panchotiya'
🥗फीका 💦 त्यौहार💥 (नाट्य रूपांतरण)
पाण्डेय चिदानन्द
भगवान हमारे पापा हैं
Lucky Rajesh
पिता की छांव
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
मुझको कबतक रोकोगे
Abhishek Pandey Abhi
पिता
Manisha Manjari
वाक्य से पोथी पढ़
शेख़ जाफ़र खान
गीत
शेख़ जाफ़र खान
कूड़े के ढेर में भी
Dr fauzia Naseem shad
औरों को देखने की ज़रूरत
Dr fauzia Naseem shad
Life through the window during lockdown
ASHISH KUMAR SINGH
कमर तोड़ता करधन
शेख़ जाफ़र खान
तपों की बारिश (समसामयिक नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
आंखों में कोई
Dr fauzia Naseem shad
"समय का पहिया"
Ajit Kumar "Karn"
* सत्य,"मीठा या कड़वा" *
मनोज कर्ण
माँ की याद
Meenakshi Nagar
मजदूरों का जीवन।
Anamika Singh
माँ — फ़ातिमा एक अनाथ बच्ची
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
रबीन्द्रनाथ टैगोर पर तीन मुक्तक
Anamika Singh
"रक्षाबंधन पर्व"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
Loading...