Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jul 30, 2022 · 2 min read

मैने देखा है

मैने देखा है आसमान को
टूटकर जमीं पर गिरते हुए।
बड़े -बड़े घरो मै पत्थर के
बीच मे आँसु को दबते हुए।
लगता है दूर से कितना आलीशान
रहा होगा उनका जीवन।
मैने देखा है उन्हें तनहाई मे
उन्हें सर पटक कर मरते हुए।
जो चलते थे समाज मे कभी अकड़कर
मैने देखा है अकेले मे टूटकर बिखरते हूए।
जो कभी इन्सां को इंसान न समझते थे।
मैने देखा है उन्हें इंसान के लिए तरसते हुए।
अपनी आवाज खुद पत्थरों से
टकराकर खुद सुनते हुए।
अक्सर हम बड़े -बड़े घरो को
देखकर अंदाजा लगाते है की
इनके जीवन मे किसी चीज
की कमी नही होगी।
पर सच कहूँ तो हमारे और आपसे
ज्यादा खुश यह भी नही होते है।
इनकी परेशानियाँ हमारे और आपसे
कई गुणा अधिक होती है।
आप कुछ इस तरह से समझे
आप अगर कोई उँचे पद पर
अगर काम कर रहे
आप की जिम्मेदारी कई गुणा बढ जाती है
कहने के लिए वे अधिकारी होते है।
उनके काम शारीरिक कम
मानसिक ज्यादा होता है।
कुछ इसी तरह के दवाब
इनके ऊपर अधिक होते है।
अपने वज़ूद को बनाए रखने का।
जो हमारे आपके देखने पर
नही पता चलता है।
हम आप किसी के साथ
अपना दुख- सुख तो बाँट लेते है।
हमें रोने के लिए कई कंधे भी मिल जाते है।
पर ये लोग अपने झूठे शान दिखाने के लिए
किसी के सामने यह अपना
दर्द भी बयान नही कर पाते है।
इनकी मजबूरी तो देखो
इनका दर्द भी पत्थरों के बीच
चीख -चीखकर खामोश हो जाती है।
इसलिए मै कहती हूँ
मैने देखा बड़े बड़े घरो के
पत्थर तक को रोते हुए।

अनामिका

4 Likes · 12 Comments · 145 Views
You may also like:
पिता, पिता बने आकाश
indu parashar
अपनी ख़्वाहिशों को
Dr fauzia Naseem shad
यह सूखे होंठ समंदर की मेहरबानी है
Dr.SAGHEER AHMAD SIDDIQUI
ईश्वर का खेल
Anamika Singh
सवालों के घेरे में देश का भविष्य
Dr fauzia Naseem shad
🌺🌺प्रेम की राह पर-47🌺🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
मैथिली के प्रथम मुस्लिम कवि फजलुर रहमान हाशमी (शख्सियत) -...
श्रीहर्ष आचार्य
खमोशी है जिसका गहना
शेख़ जाफ़र खान
💐 निर्गुणी नर निगोड़ा 💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
मर्यादा का चीर / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
जिन्दगी से क्या मिला
Anamika Singh
मंजिल दूर है
Varun Singh Gautam
" सच का दिया "
DESH RAJ
✍️पाँव बढाकर चलना✍️
"अशांत" शेखर
पितृ-दिवस / (समसामायिक नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
ओ भोले भण्डारी
Anamika Singh
दुर्योधन कब मिट पाया:भाग:37
AJAY AMITABH SUMAN
घर की रानी
Kanchan Khanna
इंतजार
Anamika Singh
सांसे चले अब तुमसे
Rj Anand Prajapati
“ फेसबुक क प्रणम्य देवता ”
DrLakshman Jha Parimal
रावण का मकसद, मेरी कल्पना
Anamika Singh
तुमसे अगर प्यार अगर सच्चा न होता
gurudeenverma198
प्रदीप : श्री दिवाकर राही का हिंदी साप्ताहिक
Ravi Prakash
💐 गुजरती शाम के पैग़ाम💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
काश।
Taj Mohammad
'विजय दिवस'
Godambari Negi
अटल विश्वास दो
Saraswati Bajpai
माँ
Dr. Meenakshi Sharma
थोड़ी सी कसक
Dr fauzia Naseem shad
Loading...