Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Mar 19, 2022 · 1 min read

मैं

मैं नहीं बेहतरीन
बात ये मुझको पता है
किन्तु मैं जैसी भी हूं
सामने हूं मैं सदा ।
एक ही व्यक्तित्व मेरा
बहुमुखी मैं हूं नहीं ।
मन, वचन, कर्म भिन्नता
प्रतिभा ये मुझमें नहीं ।
न मुझे अति चाह यश की
न ही वित्त प्रधानता ।
बस भाव सच्चे चाहिए
स्वजन हों या मित्रता ।
कोई उर पीड़ित न हो
मेरे कर्मों से कभी ।
याात्रा दुष्कर भले हो
पग थके न ये कभी ।
बस यही आशीष प्रभु
मुझको तुमसे चाहिए ।
मैं हूं जैसी, रहूं वैसी
कुछ विरत न चाहिए ।

117 Views
You may also like:
✍️व्हाट्सअप यूनिवर्सिटी✍️
"अशांत" शेखर
✍️पिता:एक किरण✍️
"अशांत" शेखर
न थी ।
Rj Anand Prajapati
रूखा रे ! यह झाड़ / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
बुद्ध धाम
Buddha Prakash
मुक्तक: युद्ध को विराम दो.!
Prabhudayal Raniwal
प्रेम
Rashmi Sanjay
कर तू कोशिश कई....
Dr. Alpa H. Amin
राह जो तकने लगे हैं by Vinit Singh Shayar
Vinit kumar
कोई हमारा ना हुआ।
Taj Mohammad
बेचैन कागज
Dr Meenu Poonia
✍️जिंदगी क्या है...✍️
"अशांत" शेखर
"वो पिता मेरे, मै बेटी उनकी"
रीतू सिंह
माँ — फ़ातिमा एक अनाथ बच्ची
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
सास-बहू
Rashmi Sanjay
दो बिल्लियों की लड़ाई (हास्य कविता)
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
आ सजाऊँ भाल पर चंदन तरुण
Pt. Brajesh Kumar Nayak
बिछड़न [भाग २]
Anamika Singh
योग क्या है और इसकी महत्ता
Ram Krishan Rastogi
तुझ पर ही निर्भर हैं....
Dr. Alpa H. Amin
वो एक तुम
Saraswati Bajpai
आजादी
AMRESH KUMAR VERMA
✍️✍️चार बूँदे...✍️✍️
"अशांत" शेखर
वीर विनायक दामोदर सावरकर जिंदाबाद( गीत )
Ravi Prakash
सारे यार देख लिए..
Dr. Meenakshi Sharma
"विहग"
Ajit Kumar "Karn"
मैं हूँ किसान।
Anamika Singh
जालिम कोरोना
Dr Meenu Poonia
मैं तेरा बन जाऊं जिन्दगी।
Taj Mohammad
सजना शीतल छांव हैं सजनी
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
Loading...