Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

मैं होली कैसे खेलूँ

शीर्षक :- मैं होली कैसे खेलूँ
रचनाकार:- डी के निवातिया

!

विषय : – होली

कोई रंग न मोहे भाये, मोरा दिल चैन न पाएं
मै होली कैसे खेलूँ, मोरे साजन घर न आएं !!

रंग-रंग के यहां फूल खिले
देख-देख मोरा जिया जले
कैसे आये उसको सुकून
जिसके बालम घर न आएं !!

कोई रंग न मोहे भायें, मोरा दिल चैन न पाएं
मै होली कैसे खेलूँ, मोरे साजन घर न आएं !!

सखी सहेली मिल फाग गावे
हँस हँस कर सब मोहे चिढ़ावें
मै विरहन घुट घुट कर जिऊँ
कैसे करूँ इस दिल का उपाये !!

कोई रंग न मोहे भायें, मोरा दिल चैन न पाएं
मै होली कैसे खेलूँ, मोरे साजन घर न आएं !!

अमवा पे बैरन कोयल गाती
कुहू-कुहू कर वो मुझे चिढ़ाती
सुन-सुन कर उसकी बोली को
मेरे कान के पर्दे फट-फट जाये !!

कोई रंग न मोहे भायें, मोरा दिल चैन न पाए
मै होली कैसे खेलूँ, मोरे साजन घर न आएं !!
!
!
!
डी के निवातिया

148 Views
You may also like:
ज्योति : रामपुर उत्तर प्रदेश का सर्वप्रथम हिंदी साप्ताहिक
Ravi Prakash
निशां बाकी हैं।
Taj Mohammad
एक प्रेम पत्र
Rashmi Sanjay
✍️जिद्द..!✍️
'अशांत' शेखर
✍️क्या यही है अमृतकाल...✍️
'अशांत' शेखर
" अखंड ज्योत "
Dr Meenu Poonia
उसे चाहना
Nitu Sah
आईनें में सूरत।
Taj Mohammad
मय है मीना है साकी नहीं है।
सत्य कुमार प्रेमी
'फौजी होना आसान नहीं होता"
Lohit Tamta
खूबसूरत तस्वीर
DESH RAJ
कर रहे शुभकामना...
डॉ.सीमा अग्रवाल
और न साजन तड़पाओ अब तुम
Ram Krishan Rastogi
कायनात के जर्रे जर्रे में।
Taj Mohammad
✍️अमृताचे अरण्य....!✍️
'अशांत' शेखर
✍️Happy Friendship Day✍️
'अशांत' शेखर
पर्व यूं ही खुशी के
Dr fauzia Naseem shad
खोकर के अपनो का विश्वास ।......(भाग- 2)
Buddha Prakash
ग़ज़ल
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
✍️अपने .......
Vaishnavi Gupta
जो देखें उसमें
Dr.sima
*सदा तुम्हारा मुख नंदी शिव की ही ओर रहा है...
Ravi Prakash
झूठे गुरुर में जीते हैं।
Taj Mohammad
*माहेश्वर तिवारी जी से संपर्क*
Ravi Prakash
खेल-कूद
AMRESH KUMAR VERMA
याद तेरी फिर आई है
Anamika Singh
देश के नौजवानों
Anamika Singh
तूने किया हलाल
Jatashankar Prajapati
हे कृष्णा पृथ्वी पर फिर से आओ ना।
Taj Mohammad
उम्मीदों के परिन्दे
Alok Saxena
Loading...