Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

मैं हूं

मोहब्बत के साजिशों से तुड़वाया मैं गया हूं।
अपनो के अक्लियत से झुकवाया मैं गया हूं।

मेरा खुमार है ये इल्म– ए–सुखन न कहना।
मेरा है हिमाकत ये इसको कलम न कहना।
कुदरत के नवाजिश से बनवाया मैं गया हूं।
मोहब्बत के साजिशों से तुड़वाया मैं गया हूं।1

जलता हूं दीप बनकर मुफलिस के ठिकानों में।
अड़ता हूं जैसे पर्वत अड़ता हो तुफानों में।
बगाबत के रहगुजर पर डलवाया मैं गया हूं।
कुदरत के नवाजिश से बनवाया मैं गया हूं।2

गुजरा है उम्र मयकश होते हुए हमारा।
फिरता हूं भटकता मैं होकर के बेसहारा।
जब से तुम्हारे घर से ठुकराया मैं गया हूं।
बगाबत के रहगुजर पर डलवाया मैं गया हूं।3

जख्मों से तर बतर था लज्जत रहा न बाकी।
उल्फत के रास्तों पर चाहत रहा न बाकी।
अश्कों के बारिशों से नहलाया मैं गया हूं।
जब से तुम्हारे दर से ठुकराया मैं गया हूं।4

कहते हैं जो ये उल्फत ऊंचा मैय्यार का है।
पूजा है आरती है परवरदिगार का है।
उनके जुबाँ से पागल कहलाया मैं गया हूं।
अश्कों के बारिशों से नहलाया मैं गया हूं।5

बनते हैं आग शोला–ओ–ख़ाक धुआँ सब कुछ।
करते निसार जो हैं मोहब्बत में यहां सब कुछ।
उनके ही महफिलों से बुलवाया मैं गया हूं।
उनके जुबाँ से पागल कहलाया मैं गया हूं।6

किसकी भला है चाहत बदनाम हो के जीना।
दुनिया में नुमाइश को अक्सर शराब पीना।
अपने ही दोस्तों से बहकाया मैं गया हूं।
उनके ही महफिलों से बुलवाया मैं गया हूं।7

उल्फत के डोर में यूं उलझा हूं सुलझ कर तब।
फूलों के हार से भी टूटा हूं मुरझ कर तब।
बर्फों की तरह “दीपक” पिघलाया मैं गया हूं।
अपने ही दोस्तों से बहकाया मैं गया हूं।8

©®दीपक झा “रुद्रा”

4 Likes · 6 Comments · 234 Views
You may also like:
अल्फाज़ ए ताज भाग-4
Taj Mohammad
यादें
Sidhant Sharma
पिता की नसीहत
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
✍️बेसब्र मिज़ाज✍️
"अशांत" शेखर
पिता
Meenakshi Nagar
जावेद कक्षा छः का छात्र कला के बल पर कई...
Shankar J aanjna
✍️मेरी कलम...✍️
"अशांत" शेखर
चाहत
Lohit Tamta
कोई हमारा ना हुआ।
Taj Mohammad
पिता
पूनम झा 'प्रथमा'
फ़ायदा कुछ नहीं वज़ाहत का ।
Dr fauzia Naseem shad
कर्म ही पूजा है।
Anamika Singh
💐💐धर्मो रक्षति रक्षित:💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
अधूरा यज्ञ (नाटक)*
Ravi Prakash
✍️✍️उलझन✍️✍️
"अशांत" शेखर
पितु संग बचपन
मनोज कर्ण
करोना
AMRESH KUMAR VERMA
मानवता
Dr.sima
काँटों में खिलो फूल-सम, औ दिव्य ओज लो।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
तुम रहने दो -
लक्ष्मण 'बिजनौरी'
कहीं पे तो होगा नियंत्रण !
Ajit Kumar "Karn"
कुछ हंसी पल खुशी के।
Taj Mohammad
मकड़जाल
Vikas Sharma'Shivaaya'
पैसा
Kanchan Khanna
कैसी तेरी खुदगर्जी है
Kavita Chouhan
पर्यावरण बचाओ रे
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
✍️✍️तो सूर्य✍️✍️
"अशांत" शेखर
बहुत हुशियार हो गए है लोग
Dr.SAGHEER AHMAD SIDDIQUI
आईना झूठ लगे
VINOD KUMAR CHAUHAN
जाऊं कहां मैं।
Taj Mohammad
Loading...