Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jun 23, 2021 · 2 min read

” मैं हूँ ममता “

” मैं हूँ ममता ”
“” “” “” “” “” “” ”
मैं हूँ ममता,
करुणामयी ममता,
माँ की ममता,
ओढ़ा कर आँचल की छाँव में,
पूरी करती मैं,हर ख़्वाहिशों को।
मैं फर्क़ नहीं करती ,
छोटे और बड़े में,
लड़का और लड़की में,
सबल और दिव्यांग में,
कुचरित्र और चरित्रवान में।
लेकिन एक ही _
कमजोरी है मेरी कि,
मैं विभेद नहीं कर सकती,
तन और मन की वास्तविक खुशी को ,
मेरे कर्णपटल को बस ,
सुनाई पड़ती है,
अपने बच्चों के _
हर्षित तन के रोम- रोम की पुकार।
मेरे बोझिल चक्षुओ को सिर्फ दिखलाई पड़ती है,
उनके ऐसो आराम के समस्त भौतिक साधन।
मैं हूँ ममता,
करुणामयी ममता,
माँ की ममता,
मैं भूल जाती, पक्षियों के प्रातः चहकने की आवाज,
मैं कभी सोच नहीं पाती कि_
नभ में उड़ते ये नवजात परिंदे भी,
खुले आसमान में प्रातःकाल क्यों चहकते है?
जबकि मेरा लाड़ला नौजवान तो अभी,
बंद कमरे में बिस्तर पर यों ही पड़े हैं।
मैं हूँ ममता,
मैं उतनी निष्ठुर नहीं हो सकती कि _
उनके कलियुगी नींद में खलल डाल दूँ,
मैं इस खग वृंद की तरह निष्ठुर क्यों बनूँ,
जो कि अपने बच्चों को तब तक ही देते हैं,
अपने घोंसलों में प्रश्रय,
जब तक कि उड़ान के पंख नहीं आ जाते।
मैं हूँ ममता,
करुणामयी ममता,
माँ की ममता,
भूल गयी मै अतीत की सच्चाई को,
जब जगत कल्याण के लिए,
कृष्ण के कर्मपथ वियोग में,
माँ यशोदा की ममता भी तड़पी थी,
भूल गयी मैं, त्रेतायुग की उन सारी घटनाओं को,
जब रघुकुलनंदन के कर्मपथ वियोग में,
माँ की ममता किस तरह व्यथित हुई थी।
सोचती मैं _
कुक्कुरमुत्ते की तरह फैलते वृद्धाश्रम,
कहीं मेरी ही बेहिसाब ममता का दुष्परिणाम तो नहीं?
लेकिन मैं कुछ नहीं कर सकती,
क्योंकि_
मैं हूँ ममता,
करुणामयी ममता,
माँ की ममता,
मैं तो बस चुमूंगी, उनके कपालों को प्यार से,
मैं तो बस सहलाउंगी,उनके बालों को दुलार से,
मैं बस स्नेह से थपथपाउंगी,उनके पीठ को।
ममता की छाँव बनाऊँगी,
उसे खुले धूप से बचाने को।
मैं तो ठंड-गर्म हवा के थपेड़ों से उसे बचाऊंगी ,
अहर्निश,अविरल,हरपल,पल-पल।
क्योकि _
मैं हूँ ममता,
करुणामयी ममता,
माँ की ममता,
बहुत दिन बीत गए ममता के आंचल दिए ,
अब मन खटकता क्यों है?
मन में एक अपराध बोध सा एहसास क्यों है?
क्यों मैं सोचती हर पल?
काश! मैंने भी इन शागिर्दों को बनाया होता,
सहने लायक_
सुख-दुख के थपेड़ों को सहने लायक,
धूप की तपिश में दमकने लायक,
भीड़ में गुम न हो जाने लायक,
सबों की जिम्मेदारी उठाने लायक,
भटकों को राह दिखाने लायक।
अब क्यों हो रहा पश्चाताप,
क्यों बहते आंखों से अश्रु निर्झर?
क्यों बन गई ?
ममता ही ममता का दुश्मन!
आखिर क्यों???

(माँ की ममता अनमोल है, इस पर कोई प्रश्नचिन्ह नहीं लगाया जा सकता है, यह रचना बदलते परिवेश में कुछ माताओं का अपने बच्चों के प्रति ज्यादा लाड़-दुलार को ध्यान में रखते हुए सामाजिक परिस्थिति पर एक कटाक्ष मात्र है)

मौलिक एवं स्वरचित

© *मनोज कुमार कर्ण
कटिहार ( बिहार )
तिथि – २३/०६/२०२१
मोबाइल न. – 8757227201

8 Likes · 8 Comments · 1234 Views
You may also like:
इंसाफ के ठेकेदारों! शर्म करो !
ओनिका सेतिया 'अनु '
गर्भ से बेटी की पुकार
Anamika Singh
हसरतें थीं...
Dr. Meenakshi Sharma
अक्षय तृतीया की हार्दिक शुभकामनाएं
sheelasingh19544 Sheela Singh
बचपन की यादें
Anamika Singh
✍️शब्दांच्या संवेदना...✍️
"अशांत" शेखर
हे कृष्णा पृथ्वी पर फिर से आओ ना।
Taj Mohammad
बदरिया
Dhirendra Panchal
एक शख्स ही ऐसा होता है
Krishan Singh
✍️शरारत✍️
"अशांत" शेखर
" नाखून "
Dr Meenu Poonia
*अंतिम प्रणाम ..अलविदा #डॉ_अशोक_कुमार_गुप्ता* (संस्मरण)
Ravi Prakash
ईश्वर की ठोकर
Vikas Sharma'Shivaaya'
रुक क्यों जाता हैं
Taran Verma
✍️जिद्द..!✍️
"अशांत" शेखर
बुद्ध पूर्णिमा पर तीन मुक्तक।
Anamika Singh
कैसी भी हो शराब।
Taj Mohammad
फ़ासला
मनोज कर्ण
पिता का सपना
Prabhudayal Raniwal
सफल होना चाहते हो
Krishan Singh
योग क्या है और इसकी महत्ता
Ram Krishan Rastogi
कर्मठ राष्ट्रवादी श्री राजेंद्र कुमार आर्य
Ravi Prakash
" ओ मेरी प्यारी माँ "
कुलदीप दहिया "मरजाणा दीप"
कल जब हम तुमसे मिलेंगे
Saraswati Bajpai
परिवाद झगड़े
ईश्वर दयाल गोस्वामी
ईश्वर की परछाई
AMRESH KUMAR VERMA
सहारा
अरशद रसूल /Arshad Rasool
चल अकेला
Vikas Sharma'Shivaaya'
💐💐सुषुप्तयां 'मैं' इत्यस्य भासः न भवति💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
*मन या तन *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
Loading...