Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
#2 Trending Author
May 9, 2022 · 1 min read

मैं हूँ किसान।

मैं हूँ एक किसान ,
मिट्टी है मेरे लिए भगवान ।
वह है मेरी शान,
और मैं उसका हूँ सन्तान।

जब पसीना मेरा बहता है,
तब जाकर भोग मिट्टी पर
चढता है।
फिर प्रसाद रूप में मुझको,
मिलता है अन्न का दान।

पत्थर का सीना चीरकर मैं
उसको उपजाऊ बनाता हूँ।
धरती को अपनी मेहनत से,
मैं उसको पिघलाता हूँ।

कई जतन करने के बाद ,
मैं उसपर फसल उगाता हूँ।
कितने तपस्या के बाद मैं
अन्न का दाना पाता हूँ।

सुरज की किरणे जब मेरे
बदन को तपाती है,
तप कर मेरा बदन जब
काला पर जाता है।
तब जाके खेतों पर अपने
मैं हरियाली ला पाता हूँ।

बारिश में भीग-भीगकर
मैं फसल लगाता हूँ।
चाहे मूसलाधार बारिश हो
पर मै कहाँ हार मानता हूँ।

ठंड मै ठिठुरती जब दिन-रात होती है,
लोग अपने घर मैं छिपे हुए रहते है।
फिर भी मैं खेतों पर रहकर
अन्न की रखवाली करता हूँ।

न जाने कितने परिश्रम के बाद ,
अन्न का दाना घर पर लाता हूँ।
पर कहा मुझे इस अन्न का
उचित दाम मिल पाता है।
आज भी मेरे परिवार का जीवन,
कष्ट में ही बितता है।

इतनी मेहनत के बाद भी
मेरी हालात कहाँ सुधर रही है।
मेरी स्थिति आज भी तो,
बद से बदतर होती जा रही है।

~ अनामिका

5 Likes · 4 Comments · 89 Views
You may also like:
"स्नेह सभी को देना है "
DrLakshman Jha Parimal
मार्मिक फोटो
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
शून्य से अनन्त
D.k Math
बुन रही सपने रसीले / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
*!* मोहब्बत पेड़ों से *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
तेरे दिल में कोई साजिश तो नहीं
Krishan Singh
श्रद्धा और सबुरी ....,
Vikas Sharma'Shivaaya'
समय के पंखों में कितनी विचित्रता समायी है।
Manisha Manjari
हमारी सभ्यता
Anamika Singh
मन पीर कैसे सहूँ
Dr. Sunita Singh
दुनिया पहचाने हमें जाने के बाद...
Dr. Alpa H. Amin
इश्क में तन्हाईयां बहुत है।
Taj Mohammad
पिताजी
विनोद शर्मा सागर
ग्रीष्म ऋतु भाग 1
Vishnu Prasad 'panchotiya'
मातृदिवस
Dr Archana Gupta
✍️स्टेचू✍️
"अशांत" शेखर
इशारो ही इशारो से...😊👌
N.ksahu0007@writer
विश्व पुस्तक दिवस (किताब)
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
नवगीत -
Mahendra Narayan
बेवफाओं के शहर में कुछ वफ़ा कर जाऊं
Ram Krishan Rastogi
डर कर लक्ष्य कोई पाता नहीं है ।
Buddha Prakash
ग़ज़ल
Mahendra Narayan
इस तरहां ऐसा स्वप्न देखकर
gurudeenverma198
फूल की महक
DESH RAJ
हर दिन इसी तरह
gurudeenverma198
सतुआन
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
एक असमंजस प्रेम...
Sapna K S
सुकून सा ऐहसास...
Dr. Alpa H. Amin
✍️सिर्फ…✍️
"अशांत" शेखर
दिवस नहीं मनाये जाते हैं...!!!
Kanchan Khanna
Loading...