Sep 8, 2016 · 1 min read

मैं हिंदी -हिन्दी

मैं हिंदी – हिंदी
✍✍✍✍

मै हिन्दी हिन्दी गाऊँ
विश्व गुरू कहलाऊँ
मै हिन्दी हिन्दी गाऊँ
कुछ कह कर इतराऊँ
मैं हिन्दी हिन्दी ——-

मैं हिंदी हिंदी बोलूँ
भाषा की परतें खोलूँ
मैं हिन्दी हिन्दी बोलूँ
मन के भेद सब खोलूँ
मैं हिन्दी हिन्दी ——–

हिन्दी हिन्दी चिल्लाऊँ
सबकी कह सुन आऊँ
जग जाहिर कर आऊँ
सबकी पीडा हर लाऊँ-
मै हिन्दी हिन्दी ——–

माता माता मैं बोलूँ
सबको शब्दों में तौलूँ
अप्पा पप्पा मैं बोलूँ
सबके मन को हर लूँ
मै हिन्दी हिन्दी ——

हिन्दी में ही जन्मा
हिन्दी में ही कर्मा
हिन्दी में ही खेला
हिंदी मे ही भूला
मै हिन्दी हिन्दी ——-

हिन्दी में ही जागा
हिन्दी में ही खेला
हिन्दी हिन्दी बोला
हिन्दी में ही डोला
मैं हिन्दी हिन्दी ———

हिन्दी मे ही सम्मान
हिन्दी में ही अपमान
हिन्दी में ही आये हो
हिन्दी में ही जाओगे
मै हिन्दी हि————

हिन्दी में धीरेधीरे युवा
हिन्दी में ही प्रेम हुआ
प्यार की बतियाँ गाई
गलियों में वो आई
मै हिन्दी हिन्दी ———

हिन्दी में प्रथम प्रेम
हिन्दी में सजा चुम्बन
अब मेरे तेरे दो है
वो भी हिन्दी हिन्दी है
मै हिन्दी हिन्दी ——-

चारों धाम कर आओ
हिन्दी हिन्दी चिलाओ
मैं हिन्दी की डोर हूँ
सबके लिए चित्त चोर हूँ
मै हिन्दी हिन्दी ———

डॉ मधु त्रिवेदी

69 Likes · 247 Views
You may also like:
बिछड़न [भाग ३]
Anamika Singh
प्रयास
Dr.sima
श्रीराम धरा पर आए थे
सिद्धार्थ गोरखपुरी
साथ तुम्हारा
Rashmi Sanjay
💐मौज़💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
राम
Saraswati Bajpai
अहंकार
AMRESH KUMAR VERMA
वफा की मोहब्बत।
Taj Mohammad
【28】 *!* अखरेगी गैर - जिम्मेदारी *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
चढ़ता पारा
जगदीश शर्मा सहज
सागर बोला, सुन ज़रा
सूर्यकांत द्विवेदी
जिंदगी का मशवरा
Krishan Singh
रत्नों में रत्न है मेरे बापू
Nitu Sah
तपिश
SEEMA SHARMA
नित हारती सरलता है।
Saraswati Bajpai
सुनो ! हे राम ! मैं तुम्हारा परित्याग करती हूँ...
ओनिका सेतिया 'अनु '
An abeyance
Aditya Prakash
स्मृति चिन्ह
Shyam Sundar Subramanian
तुम्हारी चाय की प्याली / लवकुश यादव "अज़ल"
लवकुश यादव "अज़ल"
*~* वक्त़ गया हे राम *~*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
चमचागिरी
सूर्यकांत द्विवेदी
कुछ नहीं
सिद्धार्थ गोरखपुरी
अम्मा/मम्मा
Manu Vashistha
पिता
Anis Shah
खिले रहने का ही संदेश
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
नई सुबह रोज
Prabhudayal Raniwal
जंगल में कवि सम्मेलन
मनोज कर्ण
पितु संग बचपन
मनोज कर्ण
काफ़िर जमाना
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
भोपाल गैस काण्ड
Shriyansh Gupta
Loading...