Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
Jul 20, 2016 · 1 min read

मैं सोंचता हूँ दर्द तबस्सुम में लू छुपा।

आते रहे युहीं जो खयालात’ कुछ न कुछ”
लिक्खेंगे फिर तो हम भी ग़ज़लयात’कुछ न कुछ”

मैं सोंचता हूँ दर्द तबस्सुम में लूं छुपा”
आँखों से बहने लगते हैं जज़बात कुछ न कुछ।

पत्थर भी मेरी मौत पे हो जाएं चश्म नम”
ऐसे बना खुदाया तू हालात’ कुछ न कुछ।

तूफान कर रहा है चराग़ों की हिफाज़त”
पूंछे न अक़्ल कैसे सवालात’कुछ न कुछ।

ले जाओ अपने साथ मोहब्बत के सफर में”
काम आएंगे मेरे ये तजरबात’कुछ न कुछ।

नज़रे जलाल डालो तो पत्थर के टकड़े हों”
ऐसा अगरचे हो तो बने बात’ कुछ न कुछ।

रक़्साँ है रोम रोम सबब ये है ऐ जमील”
तारी है हम पे वहशत ए नग़मात’कुछ न कुछ।

3 Comments · 112 Views
You may also like:
'फूल और व्यक्ति'
Vishnu Prasad 'panchotiya'
जाने कैसा दिन लेकर यह आया है परिवर्तन
आकाश महेशपुरी
मेरे पापा
Anamika Singh
.....उनके लिए मैं कितना लिखूं?
ऋचा त्रिपाठी
किरदार
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
पिता
Manisha Manjari
पिता
Satpallm1978 Chauhan
जैसे सांसों में ज़िंदगी ही नहीं
Dr fauzia Naseem shad
वरिष्ठ गीतकार स्व.शिवकुमार अर्चन को समर्पित श्रद्धांजलि नवगीत
ईश्वर दयाल गोस्वामी
मिसाले हुस्न का
Dr fauzia Naseem shad
ऐसे थे मेरे पिता
Minal Aggarwal
उनकी यादें
Ram Krishan Rastogi
✍️गुरु ✍️
Vaishnavi Gupta
पैसा बना दे मुझको
Shivkumar Bilagrami
माँ
आकाश महेशपुरी
✍️प्यारी बिटिया ✍️
Vaishnavi Gupta
गीत
शेख़ जाफ़र खान
दिल में रब का अगर
Dr fauzia Naseem shad
✍️कोई तो वजह दो ✍️
Vaishnavi Gupta
हायकु मुक्तक-पिता
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
श्रेय एवं प्रेय मार्ग
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
पेशकश पर
Dr fauzia Naseem shad
"मेरे पिता"
vikkychandel90 विक्की चंदेल (साहिब)
नदी सा प्यार
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
भोर का नवगीत / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
मिठाई मेहमानों को मुबारक।
Buddha Prakash
बुआ आई
राजेश 'ललित'
तपों की बारिश (समसामयिक नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
"आम की महिमा"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
काश बचपन लौट आता
Anamika Singh
Loading...