Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Aug 5, 2022 · 1 min read

मैं समंदर के उस पार था

मैं समंदर के उस पार था
तुम समंदर के इस पार थे
मैं दूसरे देश में था
तुम अपने घर में थे
मैं तुम्हारा इश्क था
तुम मेरा प्यार थे
मुझे तुमसे मिलने की जल्दी थी
तुम्हें भी मेरा इंतजार था ,
हम समंदर के उस पार थे
तुम समंदर के इस पार थे
मैं खुले समंदर में कश्ती पर था
तुम अपने घर के अंदर मस्ती में थे
मुझे अपनी ड्यूटी की चिंता थी
तुम्हें अपनी डिग्री चिंता थी
मैं समंदर के उस पार था
तुम समंदर के इस पार थे!

2 Likes · 4 Comments · 51 Views
You may also like:
आफताबे रौशनी मेरे घर आती नहीं।
Taj Mohammad
पहला प्यार
Dr. Meenakshi Sharma
✍️"अग्निपथ-३"...!✍️
'अशांत' शेखर
वादी ए भोपाल हूं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
मकड़जाल
Vikas Sharma'Shivaaya'
विसर्जन
Saraswati Bajpai
जानता है
Dr fauzia Naseem shad
इश्क ए उल्फत।
Taj Mohammad
✍️वास्तविकता✍️
'अशांत' शेखर
सिर्फ तेरी वजह से
gurudeenverma198
आद्य पत्रकार हैं नारद जी
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
ख़ूब समझते हैं ghazal by Vinit Singh Shayar
Vinit kumar
मिसाल (कविता)
Kanchan Khanna
एक प्रयास अपने लिए भी
Dr fauzia Naseem shad
तबाही
Gaurav Dehariya साहित्य गौरव
"बारिश संग बदरिया"
Dr Meenu Poonia
तीन किताबें
Buddha Prakash
बचपन भी कहीं खो गया है।
Taj Mohammad
आप तो आप ही हैं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
मातृशक्ति को नमन
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
चामर छंद "मुरलीधर छवि"
बासुदेव अग्रवाल 'नमन'
कर्मगति
Shyam Sundar Subramanian
बरसात में साजन और सजनी
Ram Krishan Rastogi
नए जूते
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
हम भी
Dr fauzia Naseem shad
*जल महादेव मैं तुम्हें चढ़ाने आया हूॅं (भक्ति गीत)*
Ravi Prakash
उलझन
Anamika Singh
दर्द सबका भी सब
Dr fauzia Naseem shad
आ तुझको बसा लूं आंखों में।
Taj Mohammad
" जय हो "
DrLakshman Jha Parimal
Loading...