Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Settings
Aug 15, 2016 · 1 min read

मैं रोते हुएे जब अकेला रहा हूँ

कहाँ और कब कब अकेला रहा हूँ
मैं हर रोज़ हर शब अकेला रहा हूँ

मुझे अपने बारे में क्या मशवरा हो
मैं अपने लिए कब अकेला रहा हूँ

उदासी का आलम यहाँ तक रहा है
मैं होते हुऐ सब अकेला रहा हूँ

यहाँ से वहाँ तक इधर से उधर तक
मैं पश्चिम से पूरब अकेला रहा हूँ

बहुत हौंसला मुझको मैंने दिया है
मैं रोते हुएे जब अकेला रहा हूँ

तेरी ज़ात मुझसे जुदा ही रही है
मैं तब हो कि या’ अब अकेला रहा हूँ

नासिर राव

1 Comment · 166 Views
You may also like:
माँ की भोर / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
सो गया है आदमी
कुमार अविनाश केसर
पिता
Mamta Rani
जिस नारी ने जन्म दिया
VINOD KUMAR CHAUHAN
उसकी मर्ज़ी का
Dr fauzia Naseem shad
सत्य कभी नही मिटता
Anamika Singh
"सावन-संदेश"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
आज तन्हा है हर कोई
Anamika Singh
चलो एक पत्थर हम भी उछालें..!
मनोज कर्ण
🥗फीका 💦 त्यौहार💥 (नाट्य रूपांतरण)
पाण्डेय चिदानन्द
दर्द की हम दवा
Dr fauzia Naseem shad
फीका त्यौहार
पाण्डेय चिदानन्द
पिता क्या है?
Varsha Chaurasiya
कशमकश
Anamika Singh
मेरी भोली “माँ” (सहित्यपीडिया काव्य प्रतियोगिता)
पाण्डेय चिदानन्द
कूड़े के ढेर में भी
Dr fauzia Naseem shad
सच्चे मित्र की पहचान
Ram Krishan Rastogi
अनमोल जीवन
आकाश महेशपुरी
✍️हिसाब ✍️
Vaishnavi Gupta
जंगल के राजा
Abhishek Pandey Abhi
सागर ही क्यों
Shivkumar Bilagrami
रुक-रुक बरस रहे मतवारे / (सावन गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
पापा करते हो प्यार इतना ।
Buddha Prakash
नदी की पपड़ी उखड़ी / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
पिता
Deepali Kalra
✍️बदल गए है ✍️
Vaishnavi Gupta
अब भी श्रम करती है वृद्धा / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
परिवाद झगड़े
ईश्वर दयाल गोस्वामी
फौजी बनना कहाँ आसान है
Anamika Singh
ख़्वाब सारे तो
Dr fauzia Naseem shad
Loading...