Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
#5 Trending Author
May 22, 2022 · 1 min read

मैं बहती गंगा बन जाऊंगी।

तू जिधर-जिधर जाएगा,,,
मैं उधर-उधर ही आऊंगी।।
तेरे लिए ओ मेरे भगीरथी,,,
मैं बहती गंगा बन जाऊंगी।।

तू जैसी मुझको बोलेगा,,,
मैं वैसी ही बनकर आऊंगी।।
तेरे लिए मेरे प्रियवर,,,
मैं उर्वशी,रंभा बन जाऊंगी।।

प्यास से तू ना घबराना,,,
मैं वर्षा बनकर बरस जाऊंगी।।
दिन की तपती धूप में,,,
मैं शीतल संध्या बन जाऊंगी।।

प्रेम का हिसाब मांगोगे,,,
मैं तुमको प्रिए ना दे पाऊंगी।।
गिनने पर आओगे जो,,,
मैं अनंत संख्या बन जाउंगी।।

गर बिछड़े जीवन में,,,
मैं तुझको फिर मिल जाउंगी।।
महसूस करना मुझको,,,
मैं खुशबू चम्पा बन जाऊंगी।।

मुझसे दूर कभी ना जाना,,,
मैं विपत्ति में साथ निभाऊंगी।।
सामर्थ्य तुमको देने को,,,
मैं हाथ का पंजा बन जाऊंगी।।

यदि थककर बैठोगे तुम,,,
मैं पेड़ की छैयां बन जाउंगी।।
इतना प्रेम करूंगी तूमसे,,,
मैं प्रेम की संज्ञा बन जाउंगी।।

तेरे लिए ओ मेरे गिरधर,,,
मैं सबकुछ ही कर जाउंगी।।
मुझको लिखना जीवन भर,,,
मैं उत्तम रचना बन जाउंगी।।

ताज मोहम्मद
लखनऊ

2 Likes · 2 Comments · 56 Views
You may also like:
फरिश्तों सा कमाल है।
Taj Mohammad
🍀🌺प्रेम की राह पर-51🌺🍀
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
कुछ गुनाहों की कोई भी मगफिरत ना होती है।
Taj Mohammad
समय के पंखों में कितनी विचित्रता समायी है।
Manisha Manjari
दुनियाँ की भीड़ में।
Taj Mohammad
सफलता की कुंजी ।
Anamika Singh
पिता
Santoshi devi
【34】*!!* आग दबाये मत रखिये *!!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
【30】*!* गैया मैया कृष्ण कन्हैया *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
You Have Denied Visiting Me In The Dreams
Manisha Manjari
नवाब तो छा गया ...
ओनिका सेतिया 'अनु '
राष्ट्रवाद का रंग
मनोज कर्ण
श्रृंगार
Alok Saxena
खिले रहने का ही संदेश
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
मयखाने
Vikas Sharma'Shivaaya'
बंद हैं भारत में विद्यालय.
Pt. Brajesh Kumar Nayak
बहुत हुशियार हो गए है लोग
Dr.SAGHEER AHMAD SIDDIQUI
बुलंद सोच
Dr. Alpa H. Amin
शायद मैं गलत हूँ...
मनोज कर्ण
जुल्म की इन्तहा
DESH RAJ
हर सिम्त यहाँ...
अश्क चिरैयाकोटी
गांव का भोलापन ना रह गया है।
Taj Mohammad
स्वप्न-साकार
Prabhudayal Raniwal
घृणित नजर
Dr Meenu Poonia
भारत को क्या हो चला है
Mr Ismail Khan
चलों मदीने को जाते हैं।
Taj Mohammad
♡ तेरा ख़याल ♡
Dr. Alpa H. Amin
बे-पर्दे का हुस्न।
Taj Mohammad
ग़ज़ल
सुरेखा कादियान 'सृजना'
जिंदगी की अभिलाषा
Dr. Alpa H. Amin
Loading...