Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Nov 17, 2016 · 1 min read

मैं बस एकबार..

मैं बस एकबार
मिलना चाहता हूँ तुमसे ,
ओ मेरे दिलदार..

भुलाकर शिकवे सारे,
भुलाकर दुनिया का दाह
लिपटकर गले से तुम्हारे
रोना चाहता हूँ मैं बार बार,
मैं बस एकबार..

बताकर हालात मेरे,
तुम्हारे ना करने की जिद तक
पकड़कर हाथों को तेरे
जताना चाहता हूँ मैं अपनी हार,
मैं बस एकबार.. .

नहीं ये रिश्ता तोड़कर,
नहीं तू निगाहों को मोड़ें
ओ हमदम, कभी ना जाना
मुझको अकेला छोड़कर
करता रहूँगा यही पुकार,

मैं बस एकबार
मिलना चाहता हूँ तुमसे ,
ओ मेरे दिलदार..

– नीरज चौहान

198 Views
You may also like:
माँ तुम सबसे खूबसूरत हो
Anamika Singh
मेरे हाथो में सदा... तेरा हाथ हो..
Dr. Alpa H. Amin
पर्यावरण और मानव
मनमोहन लाल गुप्ता अंजुम
प्रीतम दोहावली
आर.एस. 'प्रीतम'
गर्मी
Ram Krishan Rastogi
युद्ध सिर्फ प्रश्न खड़ा करता है [भाग३]
Anamika Singh
पापा आपकी बहुत याद आती है !
Kuldeep mishra (KD)
*इस बार पार कर दो (भक्ति गीत)*
Ravi Prakash
कविता क्या है ?
Ram Krishan Rastogi
विश्व विजेता कपिल देव
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
✍️✍️चार बूँदे...✍️✍️
"अशांत" शेखर
🍀🌺प्रेम की राह पर-44🍀🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
प्रेम
Dr.sima
शहरों के हालात
Ram Krishan Rastogi
मंजिल की उड़ान
AMRESH KUMAR VERMA
अनमोल घड़ी
Prabhudayal Raniwal
🍀🌸🍀🌸आराधों नित सांय प्रात, मेरे सुतदेवकी🍀🌸🍀🌸
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
समय
AMRESH KUMAR VERMA
मैं बेटी हूँ।
Anamika Singh
फूल
Alok Saxena
हो गई स्याह वह सुबह
gurudeenverma198
दिल टूट करके।
Taj Mohammad
कोई ना अपना रहनुमां है।
Taj Mohammad
प्रकृति के कण कण में ईश्वर बसता है।
Taj Mohammad
ईमानदारी
Utsav Kumar Aarya
"कर्मफल
Vikas Sharma'Shivaaya'
बॉर्डर पर किसान
Shriyansh Gupta
*तिरछी नजर *
Dr. Alpa H. Amin
❤ अब कहीं मन नहीं लगता उसके बगैर, यॉर... कोई...
Ravi Malviya
घर की इज्ज़त।
Taj Mohammad
Loading...