Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Settings

मैं नेता बनूंगा — कविता— हास्य व्यंग

मैं नेता बनूंगा

एक दिन बेटे से पूछा ;बेटा क्या बनोगे?:

कौन सा प्रोफेश्न अपनाओगे,किस राह पर जाओगे

वह थोडा हिचकिचाया,फिर मुस्कराया और बोला

मैं नेता बनूंगा

मैं हुआ हैरान उसकी सोच पर परेशान

नेता बनना होता है क्या इतना आसान ?

फिर पूछा :बेटा नेता जैसी योग्यता कहां से लाओगे

लोगों में अपनी पहचान कैसे बनाओगे

वह बोला मुझे सब पता है
नेता गिरी का जिन बातों से नाता है

नेता के लिये मिनिमम कुयालिफिकेशन है—

1पहली जमात से ऊपर पास हो या फेल्

2 किसी न किसी केस में कम से कम एक बार हुई हो जेल

3 मैथ् मे करोडों तक गिनत जरुरी है इस के बिना नेतागिरी अधूरी है

4 माइनस डिविजन चाहे ना आये पर प्लस मल्टिफिकेशन बिना

नेता बनने की चाह अधूरी है

5 सइकालोजी थोडी सी जान ले

ताकि वोटर की रग पह्चान ले

6 डराईंग में कलर स्कीम का ग्याता हो

गिर्गिट की तरह रंग बदलना आता हो

लाल, काले सफेद से ना घबराये

नेता की पोशाक में हर रंग समाये

7 पिताजी बस अब भाई दादाओं के हुनर जानना है
उस के लिये किसी अछे डान को गुरू मानना है

डाक्टर इंजनियर बनकर मै भूखों मर जाऊंगा

नेता बन कर ही होगा गाडी बंगला और विदेश जा पाऊंगा

मैने सोचा, बहुमत में नेताओंको ऎसा पाया

और अपने बेटे की बुधी पर हर्शाया

6 Likes · 9 Comments · 20301 Views
You may also like:
"बदलाव की बयार"
Ajit Kumar "Karn"
घनाक्षरी छंद
शेख़ जाफ़र खान
मजदूरों का जीवन।
Anamika Singh
वरिष्ठ गीतकार स्व.शिवकुमार अर्चन को समर्पित श्रद्धांजलि नवगीत
ईश्वर दयाल गोस्वामी
अपना ख़्याल
Dr fauzia Naseem shad
रात तन्हा सी
Dr fauzia Naseem shad
माखन चोर
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
हमें अब राम के पदचिन्ह पर चलकर दिखाना है
Dr Archana Gupta
नर्मदा के घाट पर / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
एक दुआ हो
Dr fauzia Naseem shad
पिता
Satpallm1978 Chauhan
अपनी नज़र में खुद अच्छा
Dr fauzia Naseem shad
माँ
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
आंखों पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
गीत
शेख़ जाफ़र खान
दिलों से नफ़रतें सारी
Dr fauzia Naseem shad
फूल और कली के बीच का संवाद (हास्य व्यंग्य)
Anamika Singh
ख़्वाब सारे तो
Dr fauzia Naseem shad
आह! भूख और गरीबी
Dr fauzia Naseem shad
हमारी सभ्यता
Anamika Singh
# पिता ...
Chinta netam " मन "
गुलामी के पदचिन्ह
मनोज कर्ण
प्रेम में त्याग
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
हम सब एक है।
Anamika Singh
हवा का हुक़्म / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
जो आया है इस जग में वह जाएगा।
Anamika Singh
सूरज से मनुहार (ग्रीष्म-गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
सो गया है आदमी
कुमार अविनाश केसर
चंदा मामा बाल कविता
Ram Krishan Rastogi
मृगतृष्णा / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
Loading...