Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Oct 30, 2016 · 1 min read

मैं दीपक हूँ

मैं दीपक हूँ ,
मंद मंद मुस्काता हूँ
सबको लगता है
जलता हूँ
जलकर ही अंधियारा हरता हूँ ,
पर जलना नहीं कहो उसे
वो कर्म तो तप है मेरा
तप कर ही प्रकाशित होता हूँ
आस पास को रोशन करता हूँ
जग का सारा तम हरता हूँ ।
तपकर ही प्रकाश निकलता
संदेश जगती को नव मिलता ।
हम भी सीखें दीपक से जलना
मधुर मधुर मन से तपना
तपकर भी खुशियाँ फैलाना
मंद मंद मुस्काते रहना
रोशन रहकर रोशन करना ।

हमारा जीवन भी दीप सा
प्रकाशित होता रहे और जग को प्रकाश का संदेश देता रहे ।
ऐसी गुण धर्मिता वाले दीप से सजे दीप पर्व की आप सभी को हार्दिक शुभकामनाएँ ।

डॉ रीता
आया नगर,नई दिल्ली ।

172 Views
You may also like:
मुसाफिर चलते रहना है
Rashmi Sanjay
मुस्कुराना सीख लो
Dr.sima
अग्नि पथ के अग्निवीर
अनामिका सिंह
Your laugh,Your cry.
Taj Mohammad
तुम्हीं हो पापा
Krishan Singh
जूते जूती की महिमा (हास्य व्यंग)
Ram Krishan Rastogi
पत्ते ने अगर अपना रंग न बदला होता
Dr. Alpa H. Amin
जीवन
vikash Kumar Nidan
तुम...
Sapna K S
✍️खरा सोना✍️
"अशांत" शेखर
✍️दो पंक्तिया✍️
"अशांत" शेखर
तुमसे इश्क कर रहे हैं।
Taj Mohammad
चोरी चोरी छुपके छुपके
gurudeenverma198
और मैं .....
AJAY PRASAD
ऐसे थे पापा मेरे !
Kuldeep mishra (KD)
यादों की साजिशें
Manisha Manjari
✍️वो पलाश के फूल...!✍️
"अशांत" शेखर
जगत जननी है भारत …..
Mahesh Ojha
पिता
कुमार अविनाश केसर
ठंडे पड़ चुके ये रिश्ते।
Manisha Manjari
आंखों पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
मानव_शरीर_में_सप्तचक्रों_का_प्रभाव
Vikas Sharma'Shivaaya'
हमारा दिल।
Taj Mohammad
हे प्रभु श्री राम...
Taj Mohammad
ठोकर तमाम खा के....
अश्क चिरैयाकोटी
सुहावना मौसम
AMRESH KUMAR VERMA
सच को ज़िन्दा
Dr fauzia Naseem shad
गंगा दशहरा
श्री रमण
I Can Cut All The Strings Attached
Manisha Manjari
गणतंत्र दिवस
Aditya Prakash
Loading...