Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Oct 12, 2021 · 2 min read

मैं तो सड़क हूँ,…

मैं तो सड़क हूँ,…
~~~~~~~~~~~~~
मैं तो सड़क हूँ, मुझे जाम न करो ,
यूंँ ही खुलेआम बदनाम न करो…

मेरी परेशानियों से तो सब ही वाकिफ़ है ,
जानकर भी अनजान सा क्यों मुखालिफ है ।
मेरे रास्ते पर ही सरपट दौड़े चले आते हैं ,
अजन्मा सा गर्भ हो,या कफन में लिपटे शव हो।
उम्मीदों के साये में बिलखते परिजन हो,
सांसों की घड़ी गिनता,कोई अंतिम क्षण हो।
रोजगार की खातिर भटकता तन मन हो ,
सबकी उम्मीदों से इस तरह खिलवाड़ न करो…

मैं तो सड़क हूँ, मुझे जाम न करो ,
यूँ ही खुलेआम बदनाम न करो…

देखो उधर,वो जो लड़की अकेली खड़ी है ,
शाम होने के भय से, वो जड़वत हुई है ।
निकली थी घर से वो जो,बेटी अब डरी है ,
मां घर में बिस्तर पे उसके,अकेली पड़ी है ।
दवा लाने को निकली थी, सहमी खड़ी है ,
कितनी बेबस वो दिखती,पर तुझे क्या पड़ी है ।
इनकी मजबूरी को दिल से समझा तो करो…

मैं तो सड़क हूँ, मुझे जाम न करो,
यूँ ही खुलेआम बदनाम न करो…

सीना छलनी है मेरा,वाहनों की रफ्तार से ,
दिल धड़कता है मेरा धूप हो या बरसात हो ।
दुख का दामन उठाये मैं अविचल रहा ,
सबकी परेशानियों को हरना ही मकसद मेरा ।
कैसे समझोगे अब तुम मेरी ये व्यथा ,
जब जलाओगे अग्नि से मेरी ही चिता ।
यूँ खुलेआम मेरा,कत्लेआम न करो…

मैं तो सड़क हूँ, मुझे जाम न करो ,
यूँ ही खुलेआम बदनाम न करो…

माना तेरी भी, अपनी मजबूरियां हैं ,
पर हठ करने को क्यों, ये ही पगडंडियाँ हैं ।
सत्य-अहिंसा से ये सब तो हासिल करो ,
भूखे धरने पे घर में ही बैठा करो ।
मेरे कलेजे पर चलकर मंजिल को बढ़ो ,
सितम से निपटने को,अब तुम सितम न करो ।
मेरे दामन में यूँ ही, कालिख मत धरो…

मैं तो सड़क हूँ, मुझे जाम न करो ,
यूँ ही खुलेआम बदनाम न करो…

ये तेरे हाथों में, क्या देख रहा हूँ मैं ,
लाठी,डंडा,भाला-बरछी और बहुत कुछ ।
क्या यही सब, बापू का हथियार था ,
क्या इन सब के लिए देश आजाद हुआ।
इतनी गरमी ही थी, यदि तन-बदन में ,
हमलावरों को क्यों आने दिया इस वतन में ।
लगा के माथे पर कलंक का ये टीका ,
अखण्डभारत को क्यों खण्डित होने दिया चमन में।
मैं ही देश की रफ्तार हूँ, अवरुद्ध मत करो,
मुझ निर्दोष पर,देशद्रोह का इल्ज़ाम न धरो…

मैं तो सड़क हूँ, मुझे जाम न करो,
यूँ ही खुलेआम बदनाम न करो…

मौलिक एवं स्वरचित
सर्वाधिकार सुरक्षित
© ® मनोज कुमार कर्ण
कटिहार ( बिहार )
तिथि – १२ /१०/२०२१
मोबाइल न. – 8757227201

6 Likes · 4 Comments · 802 Views
You may also like:
" पवित्र रिश्ता "
Dr Meenu Poonia
💐तर्जुमा💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
फ़ासला
मनोज कर्ण
अपराधी कौन
Manu Vashistha
अनमोल जीवन
आकाश महेशपुरी
नदी की पपड़ी उखड़ी / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
थक चुकी हूं मैं
Shriyansh Gupta
सनातन संस्कृति
मनोज कर्ण
तुम्हारा प्यार अब नहीं मिलता।
सत्य कुमार प्रेमी
My Expressions
Shyam Sundar Subramanian
दोहा छंद- पिता
रेखा कापसे
तन्हा ही खूबसूरत हूं मैं।
शक्ति राव मणि
तेरी सुंदरता पर कोई कविता लिखते हैं।
Taj Mohammad
!!*!! कोरोना मजबूत नहीं कमजोर है !!*!!
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
बस तुम को चाहते हैं।
Taj Mohammad
कर्म ही पूजा है।
Anamika Singh
** दर्द की दास्तान **
Dr. Alpa H. Amin
पापा ने मां बनकर।
Taj Mohammad
चढ़ता पारा
जगदीश शर्मा सहज
✍️आओ गुल गुलज़ार वतन करे✍️
"अशांत" शेखर
माटी
Utsav Kumar Aarya
कविता क्या है ?
Ram Krishan Rastogi
हे परम पिता परमेश्वर, जग को बनाने वाले
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
खोलो मन की सारी गांठे
Saraswati Bajpai
एक प्रेम पत्र
Rashmi Sanjay
✍️✍️हिमाक़त✍️✍️
"अशांत" शेखर
हमारे पापा
पाण्डेय चिदानन्द
✍️किस्मत ही बदल गयी✍️
"अशांत" शेखर
“ पगडंडी का बालक ”
DESH RAJ
पिता की सीख
Anamika Singh
Loading...