Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Oct 2021 · 2 min read

मैं तो सड़क हूँ,…

मैं तो सड़क हूँ,…
~~~~~~~~~~~~~
मैं तो सड़क हूँ, मुझे जाम न करो ,
यूंँ ही खुलेआम बदनाम न करो…

मेरी परेशानियों से तो सब ही वाकिफ़ है ,
जानकर भी अनजान सा क्यों मुखालिफ है ।
मेरे रास्ते पर ही सरपट दौड़े चले आते हैं ,
अजन्मा सा गर्भ हो,या कफन में लिपटे शव हो।
उम्मीदों के साये में बिलखते परिजन हो,
सांसों की घड़ी गिनता,कोई अंतिम क्षण हो।
रोजगार की खातिर भटकता तन मन हो ,
सबकी उम्मीदों से इस तरह खिलवाड़ न करो…

मैं तो सड़क हूँ, मुझे जाम न करो ,
यूँ ही खुलेआम बदनाम न करो…

देखो उधर,वो जो लड़की अकेली खड़ी है ,
शाम होने के भय से, वो जड़वत हुई है ।
निकली थी घर से वो जो,बेटी अब डरी है ,
मां घर में बिस्तर पे उसके,अकेली पड़ी है ।
दवा लाने को निकली थी, सहमी खड़ी है ,
कितनी बेबस वो दिखती,पर तुझे क्या पड़ी है ।
इनकी मजबूरी को दिल से समझा तो करो…

मैं तो सड़क हूँ, मुझे जाम न करो,
यूँ ही खुलेआम बदनाम न करो…

सीना छलनी है मेरा,वाहनों की रफ्तार से ,
दिल धड़कता है मेरा धूप हो या बरसात हो ।
दुख का दामन उठाये मैं अविचल रहा ,
सबकी परेशानियों को हरना ही मकसद मेरा ।
कैसे समझोगे अब तुम मेरी ये व्यथा ,
जब जलाओगे अग्नि से मेरी ही चिता ।
यूँ खुलेआम मेरा,कत्लेआम न करो…

मैं तो सड़क हूँ, मुझे जाम न करो ,
यूँ ही खुलेआम बदनाम न करो…

माना तेरी भी, अपनी मजबूरियां हैं ,
पर हठ करने को क्यों, ये ही पगडंडियाँ हैं ।
सत्य-अहिंसा से ये सब तो हासिल करो ,
भूखे धरने पे घर में ही बैठा करो ।
मेरे कलेजे पर चलकर मंजिल को बढ़ो ,
सितम से निपटने को,अब तुम सितम न करो ।
मेरे दामन में यूँ ही, कालिख मत धरो…

मैं तो सड़क हूँ, मुझे जाम न करो ,
यूँ ही खुलेआम बदनाम न करो…

ये तेरे हाथों में, क्या देख रहा हूँ मैं ,
लाठी,डंडा,भाला-बरछी और बहुत कुछ ।
क्या यही सब, बापू का हथियार था ,
क्या इन सब के लिए देश आजाद हुआ।
इतनी गरमी ही थी, यदि तन-बदन में ,
हमलावरों को क्यों आने दिया इस वतन में ।
लगा के माथे पर कलंक का ये टीका ,
अखण्डभारत को क्यों खण्डित होने दिया चमन में।
मैं ही देश की रफ्तार हूँ, अवरुद्ध मत करो,
मुझ निर्दोष पर,देशद्रोह का इल्ज़ाम न धरो…

मैं तो सड़क हूँ, मुझे जाम न करो,
यूँ ही खुलेआम बदनाम न करो…

मौलिक एवं स्वरचित
सर्वाधिकार सुरक्षित
© ® मनोज कुमार कर्ण
कटिहार ( बिहार )
तिथि – १२ /१०/२०२१
मोबाइल न. – 8757227201

Language: Hindi
Tag: कविता
7 Likes · 4 Comments · 958 Views
You may also like:
HAPPY BIRTHDAY SHIVANS
★ IPS KAMAL THAKUR ★
शायरी
श्याम सिंह बिष्ट
जर्मनी का उदाहरण
Shekhar Chandra Mitra
आप जैंसे नेता ही,देश को आगे ले जाएंगे
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
दर्द अपना
Dr fauzia Naseem shad
हम अपने मन की किस अवस्था में हैं
Shivkumar Bilagrami
ख़्वाहिश है की फिर तुझसे मुलाक़ात ना हो, राहें हमारी...
Manisha Manjari
जीवन का इक आइना, होते अपने कर्म
Dr Archana Gupta
मेरी बेटियाँ
लक्ष्मी सिंह
गीता के स्वर (17) श्रद्धा
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
हाय रे ये क्या हुआ
DR ARUN KUMAR SHASTRI
दिन जल्दी से
नंदन पंडित
लेके काँवड़ दौड़ने
Jatashankar Prajapati
शृंगार छंद और विधाएं
Subhash Singhai
धूल जिसकी चंदन है भाल पर सजाते हैं।
सत्य कुमार प्रेमी
💐प्रेम की राह पर-31💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
जग के पालनहार
Neha
जीवन इनका भी है
Anamika Singh
ऐसे तो ना मोहब्बत की जाती है।
Taj Mohammad
आब अमेरिकामे पढ़ता दिहाड़ी मजदूरक दुलरा, 2.5 करोड़ के भेटल...
श्रीहर्ष आचार्य
मातृ रूप
श्री रमण 'श्रीपद्'
" राजस्थान दिवस "
jaswant Lakhara
जवानी
Dr.sima
*पदयात्रा का मतलब (हास्य व्यंग्य)*
Ravi Prakash
पुस्तक समीक्षा "छायावाद के गीति-काव्य"
दुष्यन्त 'बाबा'
राब्ता
सिद्धार्थ गोरखपुरी
✍️✍️ए जिंदगी✍️✍️
'अशांत' शेखर
धैर्य कि दृष्टि धनपत राय की दृष्टि
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
यशोधरा के प्रश्न गौतम बुद्ध से
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
#क्या_पता_मैं_शून्य_हो_जाऊं
D.k Math { ਧਨੇਸ਼ }
Loading...