Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Settings
Aug 1, 2016 · 1 min read

मैं तुम्हें वैसे ही पढना चाहता हूँ

मैं तुम्हें वैसे ही पढना चाहता हूँ
जैसे कोई बच्चा चिल्ला चिल्ला
कर पहाड़ा पढता है
जैसे भक्ति में लीन होकर कोई
कबीर के दोहे पढता है

मैं तुम्हें वैसे ही पढना चाहता हूँ
जैसे कोई पढता है दिन रात एक करके
ताकि वो यू पी एस सी की परीक्षा पास कर सकें
जैसे कोई पढ लेता है छोटे से छोटे
अक्षरों को बगैर चश्मा लगायें

मैं तुम्हें वैसे ही पढना चाहता हूँ
जैसे कोई पढता है किताब का
एक एक अक्षर
जैसे कोई पढता है एक भी दिन
क्लास में बंक किये बगैर

इसलिए तुमको मैं इस तरह से
पढना चाहता हूँ
ताकि तुम कभी सवाल करो कि
मैं क्या जानता हूँ तुम्हारे में
तो मैं मुस्कुरा कर ये जवाब दे सकूं कि
मैं तुम्हें जानता तो कम हूँ लेकिन समझता बहुत हूँ

                                 विशाल विशु 

1 Comment · 158 Views
You may also like:
"सावन-संदेश"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
ठोकरों ने समझाया
Anamika Singh
इश्क़ में जूतियों का भी रहता है डर
आकाश महेशपुरी
रात तन्हा सी
Dr fauzia Naseem shad
'बाबूजी' एक पिता
पंकज कुमार कर्ण
मर्द को भी दर्द होता है
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
बँटवारे का दर्द
मनोज कर्ण
मजदूरों का जीवन।
Anamika Singh
✍️आज के युवा ✍️
Vaishnavi Gupta
सत्यमंथन
मनोज कर्ण
हे पिता,करूँ मैं तेरा वंदन
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
टूटा हुआ दिल
Anamika Singh
पापा करते हो प्यार इतना ।
Buddha Prakash
कोई मंझधार में पड़ा हैं
VINOD KUMAR CHAUHAN
ठोडे का खेल
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
अपनी नज़र में खुद अच्छा
Dr fauzia Naseem shad
लकड़ी में लड़की / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
कहीं पे तो होगा नियंत्रण !
Ajit Kumar "Karn"
"याद आओगे"
Ajit Kumar "Karn"
ईश्वरतत्वीय वरदान"पिता"
Archana Shukla "Abhidha"
फिर भी वो मासूम है
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
सिद्धार्थ से वह 'बुद्ध' बने...
Buddha Prakash
पल
sangeeta beniwal
पापा जी
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
पेशकश पर
Dr fauzia Naseem shad
अच्छा आहार, अच्छा स्वास्थ्य
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
आज मस्ती से जीने दो
Anamika Singh
दर्द की हम दवा
Dr fauzia Naseem shad
दोहा छंद- पिता
रेखा कापसे
गुमनाम ही सही....
DEVSHREE PAREEK 'ARPITA'
Loading...