Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 Aug 2016 · 1 min read

मैं तुम्हें वैसे ही पढना चाहता हूँ

मैं तुम्हें वैसे ही पढना चाहता हूँ
जैसे कोई बच्चा चिल्ला चिल्ला
कर पहाड़ा पढता है
जैसे भक्ति में लीन होकर कोई
कबीर के दोहे पढता है

मैं तुम्हें वैसे ही पढना चाहता हूँ
जैसे कोई पढता है दिन रात एक करके
ताकि वो यू पी एस सी की परीक्षा पास कर सकें
जैसे कोई पढ लेता है छोटे से छोटे
अक्षरों को बगैर चश्मा लगायें

मैं तुम्हें वैसे ही पढना चाहता हूँ
जैसे कोई पढता है किताब का
एक एक अक्षर
जैसे कोई पढता है एक भी दिन
क्लास में बंक किये बगैर

इसलिए तुमको मैं इस तरह से
पढना चाहता हूँ
ताकि तुम कभी सवाल करो कि
मैं क्या जानता हूँ तुम्हारे में
तो मैं मुस्कुरा कर ये जवाब दे सकूं कि
मैं तुम्हें जानता तो कम हूँ लेकिन समझता बहुत हूँ

                                 विशाल विशु 

Language: Hindi
1 Comment · 230 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Follow our official WhatsApp Channel to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
दे सहयोग पुरजोर
दे सहयोग पुरजोर
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
ऐसी थी बे'ख़याली
ऐसी थी बे'ख़याली
Dr fauzia Naseem shad
रिश्तों में जान बनेगी तब, निज पहचान बनेगी।
रिश्तों में जान बनेगी तब, निज पहचान बनेगी।
आर.एस. 'प्रीतम'
*मतलब सर्वोपरि हुआ, स्वार्थसिद्धि बस काम(कुंडलिया)*
*मतलब सर्वोपरि हुआ, स्वार्थसिद्धि बस काम(कुंडलिया)*
Ravi Prakash
जिन्दगी कुछ इस कदर रूठ गई है हमसे
जिन्दगी कुछ इस कदर रूठ गई है हमसे
श्याम सिंह बिष्ट
आगे बढ़ने दे नहीं,
आगे बढ़ने दे नहीं,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
💐प्रेम कौतुक-406💐
💐प्रेम कौतुक-406💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
माटी
माटी
Utsav Kumar Aarya
आतंकवाद
आतंकवाद
नेताम आर सी
बुश का बुर्का
बुश का बुर्का
नन्दलाल सिंह 'कांतिपति'
बिन माचिस के आग लगा देते हो
बिन माचिस के आग लगा देते हो
Ram Krishan Rastogi
'लक्ष्य-1'
'लक्ष्य-1'
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
*सजा- ए – मोहब्बत *
*सजा- ए – मोहब्बत *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
दो फूल खिले खिलकर आपस में चहकते हैं
दो फूल खिले खिलकर आपस में चहकते हैं
Shivkumar Bilagrami
परिंदों सा।
परिंदों सा।
Taj Mohammad
"घास वाला टिब्बा"
Dr Meenu Poonia
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Jitendra Kumar Noor
कहीं पे तो होगा नियंत्रण !
कहीं पे तो होगा नियंत्रण !
Ajit Kumar "Karn"
चुनौतियाँ बहुत आयी है,
चुनौतियाँ बहुत आयी है,
Dr. Man Mohan Krishna
दूर तक आ गए मुश्किल लग रही है वापसी
दूर तक आ गए मुश्किल लग रही है वापसी
गुप्तरत्न
✍️ये भी इश्क़ है✍️
✍️ये भी इश्क़ है✍️
'अशांत' शेखर
अश्रुपात्र A glass of tears भाग 9
अश्रुपात्र A glass of tears भाग 9
Dr. Meenakshi Sharma
अकेले-अकेले
अकेले-अकेले
Rashmi Sanjay
अजनबी
अजनबी
Shyam Sundar Subramanian
#आज_का_शेर-
#आज_का_शेर-
*Author प्रणय प्रभात*
लोग दुर चले जाते पर,
लोग दुर चले जाते पर,
Radha jha
राजा जनक के समाजवाद।
राजा जनक के समाजवाद।
Acharya Rama Nand Mandal
“ पागल -प्रेमी ”
“ पागल -प्रेमी ”
DrLakshman Jha Parimal
सबका भला कहां करती हैं ये बारिशें
सबका भला कहां करती हैं ये बारिशें
Abhinay Krishna Prajapati-.-(kavyash)
मुक्तक
मुक्तक
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
Loading...